नेशनल हाईवे का ठेकेदार किसानों को दे मुआवजा-राजेश यादव

पतरापाली से कटघोरा नेशनल हाईवे सड़क निर्माण में डम्प राखड़ बारिश में बहकर दर्जनों किसानों के खेतों में जा पटा, सड़क निर्माण कंपनी की लापरवाही से सैकड़ों एकड़ में लगी फसल हो गई चौपट

अरविन्द शर्मा 

कोरबा : कोरबा भाजपा प्रदेश योजना कार्यक्रम प्रभारी झुझोप्र व किसान मोर्चा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य राजेश यादव ने सड़क किनारे ठेकेदार की लापरवाही से किसानों के खेतों में राखड़ आ जाने किसानों को मुआवजा की मांग की है।

किसानों बगदेवा (पतरापाली) से कटघोरा एनएच 130 में तकरीबन साढ़े आठ सौ करोड़ के फोरलेन सड़क का निर्माण चल रहा है। जिस कार्य मे लगी मेसर्स दिलीप बिल्डकॉन कंपनी के लापरवाही की वजह से सड़क किनारे पर स्थित दर्जनों किसानों की खेती राखड़ की भेंट चढ़ गई।

यह भी पढ़ें :-विशेष लेख : स्तनपान है शिशुओं का सर्वोत्तम आहार और मौलिक अधिकार भी 

जहां फोरलेन निर्माण हेतु निर्माणाधीन सड़क में डम्प किये गये राखड़ बरसात में बह कर किसानों के खेतों में जा पटा और बगदेवा से चैतमा के बीच के दर्जनों किसानों की सैकड़ों एकड़ खेतों में लगी फसलें पूरी तरह से चौपट हो गई। जिसमें अधिक नुकसान ग्राम मुनगाडीह के किसानों को हुई है जहां के किसान हरीशचंद्र, कृपाल, गीताराम, घासीराम, बेचू सिंह, श्यामलाल, रामायण, रामनाथ, बिहारी, जीवन, कृष्णचंद, अमित कुमार, पांचोबाई, बहोरन, रामसिंह, कंवलसिंह, आनंदराम, संतराम, अवधराम, विश्राम, सहसराम सहित लगभग 30 किसानों की खेतों में लगी फसल राखड़ पटने से बर्बाद हो गई है।630

इस प्रकार फोरलेन निर्माण कंपनी की लापरवाही ने उन किसानों के माथे पर गहरी चिंता की लकीरें उकेर दी है क्योंकि अब किसानों के लिए दूसरी फसल बोनी का समय काफी आगे निकल चुका है। वहीं अनेक किसान ऐसे भी है जो किसानी पर ही निर्भर है और खेतों में फसलों की उपज के बदौलत परिवार का पेट पालते है। जहां उनके खेतों में राखड़ पटने के परिणामस्वरूप मेहनत व खर्च कर लगाई गई फसल नष्ट होने से उनके सामने विकट स्थिति निर्मित है।

यह भी पढ़ें :- पण्डित सुन्दरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय के पंचम् दीक्षांत-समारोह में राजस्व मंत्री ने समस्त विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दिया

इस विषय पर प्रभावित किसानों का कहना है कि सड़क निर्माण कार्य के दौरान कंपनी द्वारा निर्माणाधीन सड़क पर भारी मात्रा में राखड़ को डंप कर छोड़ दिया गया था जो भारी बारिश में बहकर उनके खेतों में जा पटा जिससे लगाई गई धान की फसल पूरी तरह से नष्ट हो गई। वही खेत भी उपजाऊ रहित हो गया जिसे उपजाऊ योग्य बनाने के लिए खेतों से राखड़ के साथ एक परत मिट्टी भी निकालनी पड़ेगी तब कहीं जाकर भूमि फसल बोने लायक हो पाएगा।

जिसके लिए काफी खर्च आएगा किंतु जवाबदार ठेका कंपनी इस ओर ध्यान नही दे रहा है और ना ही प्रशासन ने इस ओर संज्ञान लिया। फिलहाल इस मामले को भाजपा नेता राजेश यादव ने गम्भीरता से लेते हुए उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुए। किसानों को त्वरित न्याय दिलाने की बात कही गई है जिससे अन्नदाता किसानों के खेतों में हुए नुकसान को लेकर उसकी भरपाई हो सके।न्याय नहीं मिलने पर भाजपा प्रदेश नेतृत्व के निर्देशन पर आंदोलन का रूख अख्तियार करना पड़ेगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button