National Police Memorial Day: राज्यपाल ने ली परेड की सलामी

माना चौथी बटालियन में कार्यक्रम में परेड की सलामी ली

रायपुर: प्रदेश की राज्यपाल अनुसुइया उइके ने राजधानी रायपुर में राष्ट्रीय पुलिस स्मृति दिवस के अवसर पर माना चौथी बटालियन में कार्यक्रम में परेड की सलामी ली है. इस अवसर पर शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित कर राज्यपाल और गृहमंत्री ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी.

इस अवसर पर प्रदेश की राज्यपाल अनुसुइया उइके, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू सहित विधायक सत्यनारायण शर्मा उपस्थित हैं. राज्यपाल अनुसुइया उइके ने कहा कि इस अवसर पर वीर शहीदों को नमन करती हूं आज के दिन शाहिद जवानों को याद करते है जिन्होंने भारत की रक्षा के लिए लड़ते लड़ते वीरगति को प्राप्त हुए.

समाज में कानून व्यवस्था शांति बनाए रखने के लिए पुलिस के जवान जिम्मेदारियां लेते हैं. सभी नागरिक शांतिपूर्ण त्यौहार मनाते हैं. लेकिन उस समय जवान अपने परिजनों से दूर रहकर अपनी ड्यूटी पर तैनात रहते हैं.

उनकी बदौलत ही अमन चैन

यह गौरव का विषय है कि छत्तीसगढ़ पुलिस के जवानों ने विपरीत परिस्थितियों में भी विरोधियों का सामना बहादुरी से किया है. चाहे उसके लिए उन्हें अपने प्राणों की आहुति देनी पड़ी हो.नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में तैनात जवान सूझबूझ और साहस के साथ नक्सलियों का सामना करते हैं. हमेशा हम उनके ऋणी रहेंगे. उनकी बदौलत ही अमन चैन रहता हैं.

प्रदेश के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास की रोशनी वहां तक पहुंच सके और लोग प्रदेश की मुख्यधारा में जुड़े इसके लिए कार्य किए जा रहे हैं. संचार के साधनों को मजबूत किया जा रहा है.युवाओं को जोड़ने के लिए सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है. छत्तीसगढ़ के शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित करती हूं और उन्हें प्रणाम करती हूं.

डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया कि प्रत्येक वर्ष पुलिस स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है. जिन्होंने देश रक्षा में अपने प्राण कुर्बान किए हैं उनको याद करते हैं. हमारे छत्तीसगढ़ में बहुत बड़ा भू भाग नक्सल प्रभावित है.

हमारे सुरक्षा बलों ने उनसे लड़ते हुए 19 वर्षों में अपनी शहादत दी है. छत्तीसगढ़ पुलिस न केवल कानून व्यवस्था के लिए बल्कि नक्सलवाद से लड़ने के लिए और कुछ वर्षों में माओवाद के प्रति हिंसा को पुलिस ने सभी के सहयोग से रोका है.

Back to top button