दावोस में नरेंद्र मोदी के भाषण की शाहरुख खान ने जमकर की तारीफ

बोले- 20 साल में पहली बार मिला ऐसा पीएम

दावोस में नरेंद्र मोदी के भाषण की शाहरुख खान ने जमकर की तारीफ

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए भाषण की हर जगह तारीफ हो रही है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने पीएम मोदी ने दावोस में भारत के विजन को इतने बेहतरीन तरीके से पेश किया कि हर कोई उनका फैन हो गया। बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान भी पीएम मोदी के भाषण के कायल हो गए। शाहरुख ने कहा कि दावोस में पीएम का भाषण सुनकर वह काफी प्रेरित हुए। उन्होंने कहा, हमारे पीएम ने कहा कि हम यहां अपने लोगों का डंका बजाने आए हैं। उन्होंने कहा कि ग्लोबलाइजेशन अपनी चमक खोता जा रहा है और केवल भारत ही एक मात्र ऐसी जगह बाकी है जो इसकी चमक को वापस ला सकता है। भारत बहुत कुछ अच्छा कर सकता है। हमारे लिए बहुत गर्व की बात है कि 20 साल बाद पहली बार कोई पीएम यहां आया। इसके अलावा शाहरुख ने पीएम मोदी की हिंदी की तारीफ भी की। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा भाषण देना हमारे लिए बहुत गर्व की बात है।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

वहीं बॉलीवुड के बादशाह ने मैग्नेटिक महाराष्ट्र की तारीफ भी की। उन्होंने कहा, मैं जीता जागता उदाहरण हूं इस बात का कि कैसे कोई मुंबई में आकर अपने सपनों को पूरा कर सकता है। मैंने हमेशा ही कहा है कि मेरी दो मां हैं। पहली दिल्ली जिसने मुझे जन्म दिया और दूसरी महाराष्ट्र जिसने आगे बढ़ने में मेरी मदद की। नई नीतियां यंग इंडिया के लिए डिजिटल इन्वायरमेंट बनाएगा। शाहरुख खान को दावोस में क्रिस्टल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।

बता दें कि पीएम मोदी ने दावोस में अंतरराष्ट्रीय व्यापार परिषद के एक कार्यक्रम में विश्व की टॉप कंपनियों के सीईओ से मुलाकात की। यहां उन्होंने भारत में मौजूद व्यापार के अवसरों के बारे में बताया और देश के विकास की कहानी सबके सामने रखी। वहीं उन्होंने वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की सालाना बैठक में उद्घाटन भाषण देते हुए वसुधैव कुटुंबकम का महत्व बताया। उन्होंने कहा, अनादिकाल से ही भारत में हम मानव मात्र को तोड़ने और बांटने में नहीं हम जोड़ने में विश्वास करते आए हैं। भारतीय चिंतकों ने कहा है वसुधैव कुटुंबकम, यानी पूरी दुनिया एक परिवार है। हमारी नियतियों में एक सांझा सूत्र हमें जोड़ता है। वसुधैव कुटुंबकम की यह धारणा निश्चित तौर पर दरारों और दूरियों को मिटाने के लिए सार्थक है।

1
Back to top button