छत्तीसगढ़

राजधानी रायपुर में पहली बार किया जाएगा नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल का आयोजन

स्वामी विवेकानंद जी की जयंती 12 जनवरी को आयोजित होगा समापन कार्यक्रम

रायपुर: छत्तीसगढ़ के मुखिया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने निवास कार्यालय में राज्य में नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल और खेल महोत्सव के आयोजन के संबंध में बैठक ली और तैयारियों के संबंध में अधिकारियों को शीघ्र समय-सारणी तय कर ब्लाक और जिला स्तर पर प्रतियोगिताएं आयोजित कराने के निर्देश दिए।

खेल महोत्सव की राज्य स्तरीय स्पर्धाएं राजधानी रायपुर के विभिन्न खेल मैदानों में आयोजित

नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल की फायनल प्रतियोगिताएं आगामी 28 और 29 दिसंबर को राजधानी रायपुर के साईंस कॉलेज मैदान में आयोजित होंगी, वहीं खेल महोत्सव की राज्य स्तरीय स्पर्धाएं राजधानी रायपुर के विभिन्न खेल मैदानों में आयोजित होंगी तथा समापन कार्यक्रम स्वामी विवेकानंद जी की जयंती 12 जनवरी को आयोजित होगा।

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ जनजाति बाहुल्य राज्य है, यहां की संस्कृति और कला की अपनी एक विशिष्ट पहचान है। यहां पंथी, करमा, सुआ, राउत नाचा सहित अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग जनजातीय और लोक नृृत्य प्रचलित हैं जो विभिन्न अवसरों पर किए जाते हैं।

राजधानी रायपुर में पहली बार नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल छत्तीसगढ़-2019 का आयोजन

इन नृत्यों को राष्ट्रीय स्तर पर मंच प्रदान करने के लिए राजधानी रायपुर में पहली बार नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल छत्तीसगढ़-2019 का आयोजन किया जाएगा। इस आयोजन में प्रदेश के लोक कलाकार और नर्तक दलों के साथ ही देश के विभिन्न जनजातीय बाहुल्य राज्यों के लोक कलाकार और नर्तक दल हिस्सा लेंगे।

इस आयोजन में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के लोकनर्तक दलों को भी आमंत्रित किया जाएगा। डांस फेस्टिवल का टीवी चैनलों और सोशल मीडिया में लाइव प्रसारण किया जाएगा ताकि विजेताओं का निर्णय एसएमएम के माध्यम से पब्लिक वोटिंग और देश के ख्याति प्राप्त निर्णायकों के द्वारा किया जाएगा।

संस्कृति और पर्यटन विभाग द्वारा लोक कलाकारों के आने-जाने, भोजन और ठहरने की व्यवस्था

लोक कलाकारों के आने-जाने, भोजन और ठहरने की व्यवस्था संस्कृति और पर्यटन विभाग द्वारा की जाएगी। छत्तीसगढ़ के पर्यटन, संस्कृति और कला को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान मिल सके इसके लिए आवश्यक प्रचार-प्रसार के साथ आयोजन स्थल पर प्रदर्शनी भी लगायी जाएगी।

देश के जनजाति बाहुल्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित किया जाएगा साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी अतिथियों को आमंत्रित करेंगे। इसमें शामिल लोक कलाकारों को छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों का भ्रमण कराया जाएगा।

बैठक में गृह एवं पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे, स्कूल शिक्षा एवं आदिम जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, खाद्य एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल, वन एवं पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर,

मुख्य सचिव सुनील कुजूर, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी, प्रमुख सचिव रेणु जी. पिल्ले, सचिव आदिम जाति विकास डी.डी. सिंह, संस्कृति विभाग के सचिव सोनमणि बोरा, सचिव खेल एवं युवा कल्याण सिद्धार्थ कोमल सिंह परेदशी और विशेष सचिव अविनाश चंपावत सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

Tags
Back to top button