प्राकृतिक गैस की कीमतों में हो सकता है 10 प्रतिशत का इजाफा

प्राकृतिक गैस की कीमते 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 3.72 डॉलर प्रति इकाई एमएमबीटीयू कर सकती है

नई दिल्ली।

सरकार एक अप्रैल से घरेलू परियोजनाओं की प्राकृतिक गैस की कीमत बढ़ा सकती है। 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 3.72 डॉलर प्रति इकाई एमएमबीटीयू कर सकती है। मामले से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी।

इससे ओएनजीसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसी कंपनियों को लाभ होगा। सूत्रों ने कहा कि कठिन क्षेत्रों से उत्पादित गैस की दर भी बढ़कर करीब 9 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू की जा सकती है। इससे फिलहाल 7.67 डॉलर लगातार चौथी बार गैस की कीमतों में वृद्धि होगी।

प्राकृतिक गैस की कीमतें हर छह महीने- एक अप्रैल और एक अक्टूबर में तय की जाती है। इसके लिए प्राकृतिक गैस की कीमतें गैस बेचने वाले अमेरिका, रूस और कनाडा जैसे देशों के गैस बिक्री केंद्रों में एक तिमाही समाप्त वर्ष में गैस की औसत दरों के आधार निर्धारित की जाती हैं।

0-केंद्रों की कीमतों के आधार पर होगा तय

इसलिए इस बार पहली अप्रैल से 30 सितंबर की अवधि के लिए पिछले साल एक जनवरी से एक दिसंबर की अवधि में इन केंद्रों की कीमतों के अवसर के आधार पर तय की जाएगी।

आंकड़ों के अनुसार इस बार एक अप्रैल से इसमें 10 प्रतिशत की वृद्धि की जा सकती है। गैस की कीमतें बढ़ाने से ओएनजीसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज जैसे उत्पादकों का मुनाफा बढ़ेगा।

इससे पहले सरकार ने एक अक्टूबर 2018 को प्राकृतिक गैस के घरेलू उत्पादकों को दी जाने वाली कीमत को 3.06 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू से बढ़ाकर 3.36 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू कर दी थी।

Back to top button