‘ईंट से ईंट बजाने’ वाले बयान पर नवजोत सिंह सिद्धू की मुश्किलें बढ़ी

‘ईंट से ईंट बजाने’ वाले बयान को लेकर पंजाब के कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. सिद्धू ने अमृतसर में गुरुवार शाम को सार्वजनिक तौर पर कहा था कि अगर पार्टी हाईकमान ने उनको निर्णय नहीं लेने दिया तो वह ईंट से ईंट बजा देंगे.
सिद्धू के इस विवादित बयान के बाद कैप्टन अमरिंदर खेमा सिद्धू के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहा है. कुछ नेताओं ने सिद्धू से यह साफ करने को कहा है कि वह किसकी ईंट से ईंट बजाना चाहते हैं.

सिद्धू के बयान की हो रही जांच

कैप्टन अमरिंदर खेमे से ताल्लुक रखने वाले खेल मंत्री राणा गुरमीत सोढ़ी ने शनिवार को कहा कि सिद्धू का विवादित बयान पार्टी हाईकमान के संज्ञान में है और उसकी जांच की जा रही है. हालांकि, उन्होंने कहा कि सिद्धू ने आरोप लगाया है कि उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया.

राणा गुरमीत सोढ़ी ने कहा, सिद्धू पंजाब कांग्रेस के प्रधान हैं. चूंकि उन्होंने कहा है कि उनके बयान को तोड़ फोड़ कर पेश किया जा रहा है. ऐसे में पार्टी हाईकमान उनके बयान की जांच कर रहा है.

मनीष तिवारी ने साधा निशाना

उधर, पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने अपने एक ट्वीट में सिद्धू का विवादित बयान वाला वीडियो शेयर किया है. उन्होंने इशारे इशारे में नवजोत सिद्धू पर तंज कसा. उन्होंने अपने ट्वीट में अकबर इलाहाबादी के शेयर “हम आह भी भरते हैं तो हो जाते हैं बदनाम, वो कत्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होती” शेयर करते हुए सिद्धू पर निशाना साधा.

हरीश रावत ने सौंपी रिपोर्ट

पंजाब में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है. पार्टी हाईकमान ने इस विवाद को सुलझाने के लिए सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपी थी. लेकिन इसके बाद से सिद्धू और कैप्टन खेमों में जुबानी जंग छिड़ी है. इसे लेकर पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश रावत ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपनी रिपोर्ट सौंपी है.

टिकट बंटवारे को लेकर छिड़ेगी जंग

हरीश रावत अगले सप्ताह चंडीगढ़ आकर पार्टी कार्यकर्ताओं और कैप्टन अमरिंदर सिंह से मुलाकात करेंगे. पंजाब कांग्रेस के सीनियर नेताओं का मानना है कि सिद्धू और कैप्टन की जंग जल्द ही नहीं थमने वाली नहीं है, क्योंकि असली लड़ाई तो टिकटों के बंटवारे को लेकर होगी.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button