चोलनार ब्लास्ट में शामिल एक लाख का इनामी नक्सली गिरफ्तार

दंतेवाड़ा।

किरंदुल थाना क्षेत्र में आतंक का पर्याय बन चुके दंडकारण्य किसान मजदूर संगठन और चेतना नाट्य मंडली के अध्यक्ष को पुलिस मंगलवार की सुबह गिरफ्तार करने में सफल रही है। बारूदी विस्फोट की तीन वारदातों में एक दर्जन से अधिक जवान और ग्रामीण शहीद करने का वह आरोपी है।

इसके अलावा हत्या, लूट, विस्फोट, मारपीट जैसे दो दर्जन से अधिक संगीन आरोप में पुलिस को उसकी तलाश थी। सरकार के नीतियों अनुसार गिरफ्तार नक्सली सुखराम पिता भैरा उर्फ भैरव मंडावी पर एक लाख रुपए का इनाम था। वह चोलनार गांव का ही निवासी है।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार मंगलवार को डीआरजी और थाना के जवानों ने चोलनार में घेराबंदी करते 30 वर्षीय सुखराम को गिरफ्तार किया। लंबे समय उसने क्षेत्र में आंतक मचा रखा था।

पुलिस के अनुसार वर्ष 2015 के 13 अप्रैल को सुखराम अपने साथियों के साथ मिलकर चोलनार के खुटियापारा में फोर्स की एंटी लैंड माइन व्हीकल को विस्फोट कर उड़ा दिया था।

इस विस्फोट में एंटी लैंड माइन व्हीकल के परखच्चे उड़े वहीं सवार पांच जवान शहीद हो गए। जबकि आठ जवान घायल हुए। इसी तरह वर्ष 2012 के 13 मई को में सीआईएसएफ जवानों पर फायरिंग और विस्फोट किया था। इसमें छह जवान और एक वाहन चालक शहीद हुए थे।

20 मई 2018 को पेरपा चौक चोलनार- मदाड़ी नाला के पास फोर्स की वाहन को विस्फोट में उड़ा दिया था। जिसमें सात जवान शहीद हुए थे। इसके अलावा दो दर्जन से अधिक वारदातों में सुखराम शामिल था। जिसमें हत्या, लूट, आगजनी, रेल संपत्ति को नुकसान पहुंचाना, ग्रामीणों के साथ मारपीट आदि शामिल हैं।

18 वाहनों में लगाई थी आग

गिरफ्तार सुखराम पर आरोप है कि वह अपने साथियों के साथ मिलकर 28 मार्च 2014 को एस्सार धर्मकांटा के पास एक साथ 18 ट्रकों में आग लगाकर क्षति पहुंचाई थी। साथ ही मौके पर पहुंची फोर्स पर फायरिंग किया था।

इससे पहले 11 नवंबर 2013 विधानसभा चुनाव में मतदान कराकर लौट रहे कर्मचारी और फोर्स पर फायरिंग तथा बम विस्फोट किया था। 5 नवंबर 2014 को माइनिंग एरिया में खड़ी एक पोकलेन में आग लगाई। 6 नवंबर 2014 को श्मसान घाट किरंदुल के नीचे रेलवे लाइन के पेंडल किव प्लेट निकालने, क्षेत्र में जेसीबी वाहन, मिक्सर मशीन आदि को आग लगाने में शामिल रहा है।

अपहरण, हत्या और लूट का आरोपी

चोलनार निवासी सुखराम पर आरोप है कि वर्ष 2016 के 29 अप्रैल को चोलनार गांव के विजय मंडावी की हत्या, 25 मई 2016 को ग्राम बड़ेपल्ली के जोगा मंडावी का अपहरण और हत्या, इसी साल के 7 नवंबर को मदाड़ी सरपंच और दो महिलाओं का अपहरण, 20 जून 207 को चोलनार के छन्नू मंडावी की हत्या 28 अगस्त 2018 को आत्मसमर्पित नक्सली गांधी वड्डे की हत्या आदि वारदात में शामिल था।

सुखराम चार फरवरी 2018 को कड़मपाल डेम डस्ट आयरन को डीसेलिंग कर रहे पोकलेन में आग लगाने के बाद कर्मचारियों की मोबाइल और रुपये लूट लिया था। इसके साथ पुलिस पर कई बार फायरिंग और ग्रामीणों के साथ मारपीट का आरोप भी है।

– ‘चोलनार निवासी सुखराम मंडावी की गिरफ्तारी हुई है। वह डीएकेएमएस पंचायत और सीएनएम का अध्यक्ष था। गिरफ्तार नक्सली चोलनार ब्लास्ट सहित फोर्स पर फायरिंग बारूदी विस्फोट सहित कई वारदातों का आरोपी है। उस पर एक लाख रुपए का इनाम घोषित था।’ – डॉ. अभिषेक पल्लव एसपी, दंतेवाड़ा

1
Back to top button