नक्सलियों की जनअदालत की युवक की हत्या, ग्रामीणों की पिटाई

जगलपुर/ दंतेवाड़ा। कुआकोंडा थाना क्षेत्र के ग्राम सूरनार गायतापारा के जंगल में रविवार को नक्सलियों ने जन अदालत लगाकर बुधरीकरका के एक युवक की हत्या कर दी। इतना ही नहीं आधा दर्जन से अधिक ग्रामीणों की पिटाई भी की है। इतना ही नहीं नक्सली वारदात के 24 घंटे में पुलिस भी गांव नहीं पहुंची।

जानकारी के अनुसार नक्सलियों ने रविवार को बुधरीकरका के युवक बुधराम पिता कमलू पोड़ियाम की जनअदालत लगाकर हत्या कर दी। ग्रामीणों के समक्ष लाठी- डंडे से उसे इतना मारा गया कि उसने दम तोड़ दिया।

साथ ही गांव के आधा दर्जन अन्य युवक व ग्रामीणों की भी जमकर पिटाई हुई है। सूत्रों का कहना है कि नक्सलियों ने बुधराम और ग्रामीणों को गांव से मंगलवार की रात अपने साथ सूरनार और कवालीकरका के बीच स्थित पहाड़ी जंगल में ले गए थे। जहां पांच दिनों तक उनकी पिटाई होती रही। इसके बाद रविवार को सूरनार के गायतापारा जंगल मीटिंग रखी गई।

जहां सूरनार सहित आसपास के गांव से लोग पहुंचे थे। जिनके सामने बुधराम सहित अन्य लोगों पर पुलिस मुखबिर होने का आरोप लगाया गया। बताया जा रहा है कि जनअदालत में बुधराम की हत्या करने का हुक्म नक्सली लीडरों ने दिया। इसके बाद ग्रामीणों की सहमति से उनकी पिटाई शुरू कर दी। अन्य ग्रामीणों को अधमरा कर छोड़ दिया गया लेकिन बुधराम की तब तक पिटाई होती रही, जब तक उसकी जान नहीं निकल गई।

आधुनिक हत्यारों से लैस थे नक्सली
सूत्रों के मुताबिक जनअदालत में मौजूद नक्सली लीडर आधुनिक हथियारों से लैस थे। अन्य संघम सदस्यों के पास भी 12बोर और भरमार जैसे हथियार थे। यह भी बताया जा रहा है नक्सली लीडर भी नया था। जिसका नाम हुर्रा बताया जा रहा है। उसके साथ क्षेत्र में सक्रिय मंगतू, मिडकुम और तीन महिलाएं भी थी। सभी गोंडी और हिंदी में बात कर रहे हैं। बता दें कि इन दिनों जिले में नक्सली संगठन ने नए लोगों को जिम्मेदारी दी है।

advt
Back to top button