पुलिस के मुखबिर होने के शक में नक्सलियों ने की कांग्रेस नेता की बेरहमी से हत्या

बीजापुर : बीजापुर में नक्सलियों ने शनिवार को एक कांग्रेस नेता की बेरहमी से हत्या कर दी. यह वारदात पुलिस स्टेशन से कुछ किलोमीटर की दूरी हुआ है. मिली जानकारी के अनुसार, पुलिस का मुखब‍िर होने के शक में नक्सलियों ने कांग्रेसी नेता की हत्या की.

मृतक कांग्रेस नेता की पहचान सहदेव के तौर पर की गई है. पुलिस के मुताबिक, टोटापाड़ा निवासी सहदेव सम्राट (30) पर शनिवार को भैरमगढ़ शहर के कोस्तापारा इलाके में एक शादी समारोह में गया हुआ था.

देर शाम सहदेव ने देख लिया था कि धारदार हथियारों से लैस चार-पांच लोग उसे तलाश रहे हैं, जिसके बाद उसने छिपने की कोशिश भी की, लेकिन हमलावरों ने उसे ढूंढ़ निकाला और उसके साथ बुरी तरह मारपीट के बाद कुल्हाड़ी और चाकुओं से हत्या कर दी. इसके बाद नक्सलियों ने सहदेव का शव गांव के बाहरी इलाके में फेंक दिया.

अभी यह साफ नहीं हो सका है कि उसकी हत्या क्यों की गई और न ही घटनास्थल से नक्सलियों का कोई नोट बरामद हुआ है. हालांकि, नक्सलियों द्वारा कांग्रेस नेता की हत्या वाले दिन झीरम घाटी हत्याकांड की बरसी थी. इसलिए इस वारदात को उस हत्याकांड से भी जोड़कर देखा जा र‍हा है.

बता दें कि 25 मई 2013 को बस्तर के झीरम घाटी में नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा पर घात लगाकर हमला किया था. इस हमले में 35 कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं को मौत के घाट उतार दिया गया था.

इस हमले में कांग्रेस के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार पटेल, पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्ल, पूर्व मंत्री महेंद्र कर्मा, पूर्व विधायक उदय मुदलियार को नक्सलियों ने अपना निशाना बनाया था.

इस घटना के तीन दिन बाद राज्य की तत्कालीन बीजेपी सरकार ने एक न्यायिक आयोग का गठन किया था. लेकिन पांच साल बाद भी रिपोर्ट नहीं आने पर कांग्रेस सरकार ने इसे राजनैतिक साजिश करार देते हुए पूरी घटना की एसआईटी(स्पेशल टास्क फोर्स) से जांच कराने का फैसला किया था.

Back to top button