विधानसभा चुनाव से पहले हमले की फिराक में नक्सली, फोर्स अलर्ट

बीजापुर।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर में पहले चरण के मतदान के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद कर दिया गया है। चुनाव आयोग का फोकस बस्तर संभाग के अत्यधिक नक्सल प्रभावित विधानसभा इलाकों पर है, जहां नक्सली चुनाव में खलल डाल सकते हैं।

मतदान शांतिपूर्ण कराने के लिए अतिरिक्त बल तैनात किए जा रहे हैं। बीजापुर में अब तक 15 हजार अतिरिक्त जवानों की तैनाती हो चुकी है। करीब 25 हजार अतिरिक्त जवानों को यहां तैनात करने का प्रस्ताव है।

-जवानों के लिए 129 आश्रम- छात्रावासों का अधिग्रहण्ण

जवानों के ठहरने के लिए 129 आश्रम-छात्रावासों सहित अन्य आवासीय शिक्षण संस्थाओं का अधिग्रहण किया जा चुका है। 76 मतदान केंद्रों के स्थानांतरण प्रस्ताव पर सहमति बनने की जानकारी भी मिली है। जिले में नेशनल हाइवे से लेकर स्टेट हाइवे तक जगह-जगह जांच नाके लगाए गए हैं, जहां आवाजाही के दौरान वाहनों के नंबर भी दर्ज किए जा रहे हैं। नाम, पते नोट करने के साथ सामानों की तलाशी भी ली जा रही है। भोपालपट्टनम में इंटर स्टेट कॉरिडोर के मद्देनजर खास एहतियात बरती जा रही है।

-नक्सली बासागुड़ा इलाके में सक्रिय

नक्सली संगठन लगातार चुनाव बहिष्कार के पर्चे फेंक रहे हैं। सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि माओवादियों के हार्डकोर कैडर की दो- तीन टीमें बासागुड़ा इलाके में सक्रिय हैं। आशंका जताई जा रही है कि नक्सली बड़ी घटना की फिराक में हैं।

-सभी थाने हाई अलर्ट पर

एसपी मोहित गर्ग का कहना है कि सभी थानों और कैंपों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। जिले की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है। एसपी का कहना है कि जिले में पहले से मौजूद जवान और बाहर से चुनाव कराने आ रहे जवानों की कुल संख्या 40 हजार से ज्यादा होगी।

1
Back to top button