गढ़चिरौली में नक्सलियों का बड़ा हथियार सप्लायर गिरफ्तार

कांकेर।

छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों को हथियार सप्लाई करने के मामले में अजित राय नामक युवक को गिरफ्तार किया गया है। यह कार्रवाई दिल्ली की विशेष पुलिस शाखा और गढ़चिरौली पुलिस ने संयुक्त रूप से की है।

पुलिस का कहना है कि 48 वर्षीय अजित दो दशक से भी ज्यादा समय से नक्सलियों के संपर्क में है। कई बड़ी वारदातों में अलग-अलग तरह से भूमिका निभाने का संदेही है। एसपी शैलेष बलकवड़े ने बताया कि गढ़चिरौली के मुलचेरा तहसील अंतर्गत गोविंदपुर गांव के अजित को नक्सलियों को हथियार पहुंचाने और पैसे वसूली करके देने में सहयोगी पाया है।

अप्रैल में कसनासूर जंगल में हुई मुठभेड़ में 47 नक्सलियों के साथ मारे गए कई नक्सली नेताओं से अजित राय का घनिष्ठ संबंध रहा है। लाखोंं के इनामी नक्सलियों को शहर तक लाने, वाहन मुहैया कराने, इलाज, होटलों में रुकवाने जैसा काम भी अजित करता था। वह 2014 से 2017 तक तीन साल गोविंदपुर, तंटामुक्त समिति का अध्यक्ष था।

आहेरी के एक ठेकेदार के यहां निर्माण कार्य में मुंशी की तरह देखरेख कर रहा था। उसे जैसे ही शक हुआ कि पुलिस उस पर नजर बनाए हुए है तो वह तीन- चार महीनों से भूमिगत हो गया था। आरोपित अजित को पकड़ने के लिए उसके ठिकाने को एक माह पहले ही चिन्हित कर नजर रखी जा रही थी।

ऐसे फंसा हथियारों का सौदागर

दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने अपराधी और नक्सलियों की सांठ- गांठ के संदेह में रामकृष्ण सिंह नाम के एक व्यक्ति को दिल्ली में जुलाई में पकड़ा था। इसके बाद 13 अक्टूबर को एक अन्य कार्रवाई में संजय सिंह नाम के शख्स के पास से 22 जिंदा कारतूस मिले। फिर दोनों की जांच में अजित राय का नाम सामने आया। इसी आधार पर पुलिस ने अजित को घेरा डालकर दबोच लिया। पकड़े जाने के दौरान भी अजित के पास से 45 जिंदा कारतूस बरामद किए गए हैं।

Tags
Back to top button