नक्सलियों ने मुखबिरी के संदेह में एक ग्रामीण को उतारा मौत के घाट, 1 अगवा

किस्टाराम थाना क्षेत्र के साकलेर व वेदेपाड़ में यह दोनों हत्याएं की गईं।

जगदलपुर . किस्टाराम थाना क्षेत्र के वेदेपाड़ गांव में नक्सलियों ने मुखबिरी के संदेह में एक ग्रामीण की हत्या कर दी, जबकि एक अन्य व्यक्ति को अगवा कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक सोमवार रात लगभग 11:30 बजे वेदेपाड़ गांव में कुछ नक्सली पहुंचे और 30 वर्षीय करका कृष्णा को घर से उठाकर जंगल की ओर ले गए और चाकू मारकर हत्या कर दी।

नक्सली वेदेपाड़ के ही तुर्रम रमेश को भी अपने साथ ले गए थे। लेकिन अब तक रमेश में बारे में जानकारी नहीं मिली है। इससे पहले किस्टाराम थाना क्षेत्र के गांव साकलेर में भी नक्सलियों ने गुरुवार रात 60 वर्षीय कारम लिंगा की हत्या कर दी थी।

नक्सलियों ने फिर से दो लोगों की हत्या

जिले में मुखबिरी के शक में नक्सलियों ने फिर से दो लोगों की हत्या की है। किस्टाराम थाना क्षेत्र के साकलेर व वेदेपाड़ में यह दोनों हत्याएं की गईं। इनके अलावा नक्सली एक व्यक्ति  को अगवा कर अपने साथ ले गए हैं।

इनमें से एक वेदेपाड़ की वारदात को सोमवार रात अंजाम दिया गया। इसके चार दिन पहले साकलेर में एक हत्या की गई थी। 

मुखबिरी के शक में 15 दिन में यह 8वीं हत्या

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक किस्टाराम थाना क्षेत्र के गांव साकलेर व वेदेपाड़ में मुखबिरी के आरोप लगाते हुए नक्सलियों ने दो लोगों की हत्या की है।  एक अन्य ग्रामीण तुर्रम रमेश को अगवा कर नक्सली अपने साथ में गए हैं।

दो हत्या और अपहरण की वारदात के बाद पूरे किस्टाराम क्षेत्र व आसपास दहशत है। पुलिस अफसरों का कहना है कि नक्सलियों ने 4 दिन पहले ग्राम साकलेर के ग्रामीण 60 वर्षीय कारम लिंगा की हत्या की थी।

इसके बाद नक्सलियों ने सोमवार की रात लगभग 11:30 बजे ग्राम वेदेपाड़ के ग्रामीण 30 वर्षीय करका कृष्णा को उसके घर से निकालकर जंगल में ले गए।

जंगल में ले जाकर उसकी चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई। नक्सली  करका कृष्णा के साथ ही एक अन्य ग्रामीण वेदेपाड़ के ही निवासी तुर्रम रमेश को अपने साथ ले गए थे। अब तक उनकी जानकारी नहीं मिली है।

ग्रामीणों के शवों को पुलिस ने किया बरामद

वे कहां है यह भी पता नहीं हैं। माना जा रहा है कि नक्सली तुर्रम रमेश को अपने साथ ले गए हैं। पुलिस ने मारे गए ग्रामीणों के शवों को बरामद कर लिया है और उनके शवों का पोस्टमार्टम भी करवा दिया गया है। इन वारदातों के बाद पूरे इलाके के ग्रामीण दहशत में हैं। जिन लोगों की हत्या नक्सलियों ने की है उनके पुलिस संबंध होने य न होने की पुष्टि नहीं हुई है। 

advt
Back to top button