मनोरंजन

सुशांत केस में NCB की जांच से दहशत में तस्कर, डर के मारे समंदर में फेंक रहे हैं ड्रग्स

ये इनपुट नारकोटिक्स की टीम को जांच के दौरान मिला है.

मुंबई: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में अब ड्रग्स कनेक्शन भी सामने आ गया है. NCB की टीम इस पूरे मामले की जांच कर रही है. दिल्ली एनसीबी के 5 अधिकारी मुंबई में जांच करने पहुंचे हैं और जैसे ही एनसीबी की जांच शुरू हुई है, मुंबई में ड्रग्स माफियाओं में दहशत फैल गई है. दरअसल, जब से ड्रग्स को लेकर रिया की व्हाट्सएप चैट सामने आई है, उसके बाद से माफियाओं ने ड्रग्स को जलाना और उसे समंदर में फेंकना शुरू कर दिया है. ये इनपुट नारकोटिक्स की टीम को जांच के दौरान मिला है.

व्हाट्सएप चैट मैं एक गौरव आर्या नाम के शख्स का नाम सामने आया

एनसीबी को जांच में पता चला है कि बॉलीवुड में ड्रग्स सप्लाई करने वाले बड़े-बड़े ड्रग्स पैडलर अपने ड्रग्स को नष्ट करने में लगे हुए है. नारकोटिक्स की टीम ने जिस अब्बास और करण को गिरफ्तार किया है, वह एक खास किस्म की ड्रग्स बेचते हैं जिसकी एक ग्राम की कीमत 5 हज़ार रुपये है.

नारकोटिक्स डीजी ने ये आदेश दिया है कि जिस तरह से मुंबई में दाऊद के समय 1993 मे बम ब्लास्ट हुआ था, उसके बाद जिस तरह मुंबई पुलिस और नेशनल एजेंसियों ने अंडरवर्ल्ड पर काम करना शुरू किया था. इसी तरह अब एनसीबी की टीम मुंबई, गोवा और आसपास से पूरे ड्रग्स रैकेट और नेक्सेस पर काम करेंगी. जो दो ड्रग्स पैडलर गिरफ्तार हुए थे उनसे रिया एंड कंपनी का डायरेक्ट कोई कनेक्शन नहीं निकला है, लेकिन इनसे रिया एंड कंपनी को ड्रग्स कौन सप्लाई करते थे, उन ड्रग्स पैडलर्स के बारे में अहम जानकारी मिल सकती है. लिहाजा उनसे लगातार पूछताछ की जा रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रिया की व्हाट्सएप चैट मैं एक गौरव आर्या नाम के शख्स का नाम सामने आया है, जिससे रिया साफ तौर पर ड्रग्स की बात कर रही हैं. अब आपको बताते हैं कि आखिरकार यह गौरव आर्य कौन हैं. दरअसल, गौरव आर्या गोवा का एक होटलियर है. सूत्रों का कहना है कि ड्रग्स केस में रिया जिस गौरव आर्य से व्हाट्सएप पर चैट कर रही थीं, उसका सीधा-सीधा संबंध अंडरवर्ल्ड से है. गौरव अंडरवर्ल्ड के ड्रग्स रैकेट का हिस्सा है. गौरव सीधे क्लाइंट्स को और रेव पार्टी में ड्रग्स सप्लाई करता है. रिया चक्रवर्ती भी उसकी एक क्लाइंट हैं.

एक बड़े इंटरनेशल ड्रग्स रैकेट का भांडाफोड़

साल 2015 के पहले से रिया गौरव आर्या के संपर्क में थी. गौरव, अबू असलम कासिम आज़मी से जुड़ा हुआ है. इन दोनों का गोवा में होटल है. 2017 में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक बड़े इंटरनेशल ड्रग्स रैकेट का भांडाफोड़ किया था. 40 करोड़ का MDMA जब्त किया था, इस मामले में आजमी को गिरफ्तार किया गया था, इसके तार बेल्जियम और यूके के अंडरवर्ल्ड के ड्रग्स रैकेट से जुड़ते हैं.

अबू असलम को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने साल 2017 में तीन लोगों के साथ गिरफ्तार किया था. उस वक्त स्पेशल सेल ने करीब 40 करोड़ की एमडीएमए से बरामद की थी. इसका जन्म मुंबई में हुआ था. इसने 12वीं तक पढ़ाई की हुई है. वह पहले दुबई में एक कार्गो कंपनी में काम करता था, बाद में नौकरी छोड़कर गोवा आ गया और उसके बाद वहां इसने एक ओसियन विंग्स नाम की एक कंपनी में 2010 से 2013 तक काम किया. उसके बाद वो मुंबई आ गया. मुंबई में वह नशे के सबसे बड़े सौदागर कैलाश राजपूत के संपर्क में आया. इन दोनों को मिलाने वाला था मुंबई का हनीफ भाई. हनीफ भी एक ड्रग्स सप्लायर है.

कैलाश राजपूत का पूरा नाम कैलाश नितिन कुमार राजपूत है

आजमी ने कैलाश राजपूत के लाइफ स्टायल को देखकर और उसके पैसे को देखकर रातो रात अमीर बनने की सोची और वह भी नशे के धंधे में उतर गया. उसके बाद काजमी को पता चला कि कैलाश राजपूत दुबई में बैठकर ड्रग्स का धंधा कर रहा है और आजमी भी नशे के धंधे में उतर गया. कैलाश राजपूत का पूरा नाम कैलाश नितिन कुमार राजपूत है. ड्रग्स की दुनिया में इसे KR भी कहते है. कैलाश राजपूत मुंबई और दिल्ली समेत ड्रग्स के कई केस में वांटेड चल रहा है.

एबीपी न्यूज़ के पास कैलाश राजपूत के पासपोर्ट की कॉपी है. जो कि दुबई का है. दुबई में बैठकर ही कैलाश राजपूत पूरे भारत में ड्रग्स की सप्लाई कर रहा था, जिसमें दिल्ली और मुंबई भी शामिल है. सूत्रों की मानें तो इस समय कैलाश राजपूत लंदन में है. कैलाश राजपूत के संपर्क में अबू असलम कासिम, और कासिम के संपर्क में गौरव आर्य और गौरव के संपर्क में रिया चक्रवर्ती. फिलहाल नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की टीम इस पूरे मामले की गंभीरता से जांच कर रही है और आने वाले दिनों में इस मामले में तमाम अहम खुलासे होने की संभावना है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button