खेल

नेहरा ने हमें कभी विदाई मैच के लिए नहीं कहा था: प्रसाद

मुंबई: राष्ट्रीय चयन समिति प्रमुख एमएसके प्रसाद ने कहा है कि बायें हाथ के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा का न्यूजीलैंड के खिलाफ दिल्ली में होने वाले पहले टी 20 मैच में अंतिम एकादश में चयन टीम प्रबंधन पर निर्भर करेगा और इस गेंदबाज ने विदाई मैच के लिए कभी नहीं कहा था। प्रसाद ने न्यूजीलैंड के खिलाफ टी 20 टीम की घोषणा करते हुए सोमवार को संवाददाताओं से कहा कि नेहरा ने हमें कभी विदाई मैच के लिए नहीं कहा था। दिल्ली के मैच में उन्हें अंतिम एकादश में खेलाया जाएगा या नहीं इसका फैसला टीम प्रबंधन को करना है। 38 वर्षीय नेहरा ने इस महीने के शुरूआत में ही तीनों प्रारूपों से रिटायरमेंट लेने की घोषणा कर दी थी और कहा था कि कोटला मैदान पर न्यूजीलैंड के खिलाफ उनका मैच करियर का आखिरी मैच होगा।

नेहरा को आस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैचों की टी 20 अंतरराष्ट्रीय सीरीज के लिए टीम में शामिल किया गया था लेकिन उन्हें मैच खेलने का मौका नहीं मिल पाया था। न्यूजीलैंड के खिलाफ टी 20 सीरीज के पहले मैच के लिए नेहरा के चयन को लेकर चयनकर्ताओं ने इस बात से इंकार किया कि अनुभवी तेज गेंदबाज को मैदान से विदाई लेने का मौका देने के उद्देश्य से पहले मैच के लिए उन्हें टीम में शामिल किया गया है। प्रसाद ने कहा कि उन्हें अंतिम एकादश में शामिल करने का निर्णय टीम प्रबंधन का होगा। प्रसाद ने कहा कि हम नहीं कह सकते कि नेहरा कोटला में खेल ही पाएंगे क्योंकि यह पूरी तरह से टीम प्रबंधन पर निर्भर करेगा कि उन्हें अंतिम एकादश में जगह दी जाए या नहीं। टीम के नीति निर्माता ही यह फैसला करेंगे। लेकिन हमारी ओर से कुछ तय नहीं है। यह उसी दिन तय किया जाएगा। मुख्य चयनकर्ता ने कहा कि हमने नेहरा और टीम प्रबंधन को इस बारे में सूचित कर दिया है कि वह केवल न्यूजीलैंड सीरीज तक ही नेहरा पर विचार कर रहे हैं।

नेहरा को पहले मैच के लिए टीम में जगह तो मिल गई है लेकिन यह देखना दिलचस्प होगा कि कप्तान विराट कोहली और टीम प्रबंधन उन्हें मैदान से विदाई देने के लिए अंतिम एकादश में शामिल करता है या नहीं। भारतीय क्रिकेट में पिछले कुछ वर्षाें में सचिन तेंदुलकर ही एकमात्र ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जिन्हें मैदान से सम्मान के साथ विदाई मिली है। बीसीसीआई ने सचिन के 200वें टेस्ट को विदाई टेस्ट बनाने के लिए वेस्टइंडीज के साथ बाकायदा टेस्ट सीरीज आयोजित कर दी थी। राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण, वीरेंद्र सहवाग,जहीर खान जैसे दिग्गज खिलाड़यिों को मैदान से विदाई लेने का मौका नहीं मिल पाया। उन्होंने बयान जारी कर अपने संन्यास की घोषणा की थी। नेहरा ने साल 1999 में अपना टेस्ट पदार्पण किया था जिसके बाद से अब तक नेहरा 17 टेस्ट, 120 वनडे और 26 टी-20 मुकाबले खेल चुके हैं। नेहरा छह भारतीय कप्तानों के नेतृत्व में खेले हैं। वह मोहमद अजहरुद्दीन, सौरभ गांगुली, राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया में खेले हैं। उन्होंने टेस्ट में 44 , वनडे में 157 और टी 20 में 34 विकेट लिए हैं।

Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *