राष्ट्रीय

मुश्किल में फंसे नेपाल के काम नहीं आया चीन, भारत ने इस बार मदद में भेजे 28 वेंटिलेटर

काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास की ओर से यह जानकारी साझा की गई.

काठमांडू : कोरोना काल (Corona Crisis) में भारत (India) ने एक बार फिर नेपाल (Nepal) की बड़ी मदद की है. इसी साल 2020 में चीन (China) को खुश करने के लिए नेपाल ने भारत के साथ सदियों पुराने रिश्ते दांव पर लगा दिए. इसके बावजूद भारत ने नेपाल के सबसे बेहतर सहयोगी होने का वादा निभाया है. भारत ने कोरोना वायरस महामारी से लड़ाई में मदद के लिये नेपाल सरकार को 28 आईसीयू वेंटिलेटर दिए हैं. काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास की ओर से यह जानकारी साझा की गई.

दूतावास ने बयान जारी कर कहा, ‘भारत की सरकार ने नेपाल सरकार को कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सहयोग के तहत 28 आईसीयू वेंटिलेटर दिए हैं.’ बयान में कहा गया कि भारत के राजदूत विनय एम. क्वात्रा (Indian envoy VM Kwatra) ने नेपाल के स्वास्थ्य मंत्री भानुभक्त ढाकल (Bhanubhakt Dhakal) को वेंटिलेटर सौंपे.

नेपाल का कोरोना बुलेटिन
आपको बता दें, नेपाल (Nepal) में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1 लाख 94 हजार से अधिक हो चुकी है. कोरोना की वजह से वहां अब तक 1108 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं नेपाल में संक्रमण को मात देकर इलाज से 1 लाख 58 लोग ठीक भी हो चुके हैं.

जान बचाने में कारगर वेंटिलेटर
गौरतलब है कि कोरोना के गंभीर मरीजों की जान बचाने के लिए वेंटिलेटर्स की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ती है. इससे पहले भी भारत ने नेपाल को कोविड-19 जांच किट, वेंटिलेटर और दवाएं दी थीं ताकि उसे संक्रमण पर नियंत्रण पाने में सहयोग मिल सके. बयान में बताया गया, ‘सौंपे जाने के दौरान राजदूत क्वात्रा ने महामारी पर नियंत्रण पाने में नेपाल की सरकार और लोगों के साथ भारत की एकजुटता को दोहराया और इस सिलसिले में सभी आवश्यक सहयोग देने की भारत की प्रतिबद्धता की पुष्टि की.’

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button