छत्तीसगढ़

नए पदाधिकारी को भी साधना होगा राहुल को

एकजुटता के लिए कांग्रेस भवन में बैठक
राहुल के बस्तर प्रवास को सफल बनाने के लिए राष्ट्रीय पदाधिकारियों का प्रयास जारी

–अनुराग शुक्ला

जगदलपुर. कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी के बस्तर प्रवास को देखते पूरी कांग्रेस बस्तर में है। राष्ट्रीय पदाधिकारियों सहित, छग के नए प्रभारी पीएल पुनिया भी बस्तर में डेरा जमाए हुए हैं। वे राहुल गांधी के बस्तर आने के 48 घंटे पहले पहुंच चुके हैं। इससे पहले की राहुल गांधी की मारकेल में प्रस्तावित आमसभा हो, कांग्रेस के आला नेता, कमलेश्वर पटेल, राष्ट्रीय सचिव, अरूण ओराव,राष्ट्रीय सचिव, पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष छग शासन टीएस सिंहदेव गुरूवार को कांग्रेस भवन पहुंचे और यहां पर कार्याकर्ताओं से बैठक की।

इस बैठक का मूल सार यह था कि कांग्रेस को एक बार फिर संगठित होना है। पदाधिकारियों ने जहां कार्यकर्ताओं को आगे आने और मौखिक तौर पर भाजपा की सरकार के कारनामों को उजागर करने की बात कही वहीं उन्होंने कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाते कहा कि भले ही सरकार विरोध करने वालों के आवाज को दबाने के लिए अथक प्रयास कर रही हो लेकिन अब समय आ गया है जब जनता जवाब देगी। भाजपा के क्रियाकलापों से सभी त्रस्त हैं। अब चुनाव के लिए महज डेढ़ साल का समय है लेकिन इसमें कांग्रेस के हर कार्यकर्ता को अपनी पूरी ताकत झोंकने की आवश्यकता है।

मालूम हो कि संगठन और कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने का यह प्रयास एक तरह से नए राष्ट्रीय पदाधिकारियों के लिए भी परीक्षा की घड़ी है। राहुल गांधी के प्रवास की सफलता पर ही इनकी जिम्मेदारियां तय होनी है। इसके चलते ही सभी वक्ताओं ने ज्यादा से ज्यादा संख्या में राहुल गांधी की आमसभा तक पहुंचने और अपने समर्थकों का लाने का आह्वान किया। कांग्रेस का उद्देश्य ऐसा दिखा कि चहुओर मौखिक तौर पर राहुल के प्रवास के फायदों को गिनाया जाए और भाजपा के कारनामों को उजागर किया जाए।

किसने क्या कहा

प्रदेश की रमन सरकार भ्रष्टाचार से डूबी हुई है। इस सरकार के कृत्य ही कांग्रेस का रास्ता साफ कर रहे हैं। कांग्रेसियों को संगठित होकर चलना है। आने वाले समय में बस्तर से बारह की बारह सीट पर कब्जा हमारा होगा: पीएल पुनिया

राष्ट्रीय महासचिव व छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रभारी बस्तर का इतिहास पुराना है, अविभाजित मध्यप्रदेश में भी बस्तर की अलग ही पहचान रही है। बस्तर को लेकर राहुल गांधी जिस तरह से आतुर हैं उसी तरह हमें भी उनके स्वागत और उनके प्रवास को सफल बनाना है। हर कार्यकर्ता को अपना दायित्व समझना है और उसे निभाना है: कमलेश्वर पटेल

राष्ट्रीय सचिव कांग्रेस हमने बस्तर की शहादत को देखा है। कांग्रेस को स्थापित करने के लिए यहां लोगो ने प्राणों की आहूती दी है। हम यहां के कार्यकर्ताओं का नमन करते हैं। बस्तर से हमें प्रदेश ही नहीं देश में पहचान मिली है। बस्तर में अब जो बदलाव आ रहा है इससे ऐसा लगता है कि आने वाला समय कांग्रेस का ही होगा: अरूण ओरांव

भाजपा की करतूत सभी के सामने है, हमें संगठित होकर काम करना है। कांग्रेस की नींव मजबूत हो रही है, कार्यकर्ता आने वाले चुनाव के लिए कमर कस लें। राहुल गांंधी के प्रवास के दौरान कांग्रेस के सभी वर्ग ऐसा काम करें कि लगे कांग्रेस एक ही परिवार है, कार्यक्रम की सफलता हमारा ध्येय है, सिर्फ फोटो खिंचाने से जिम्मेदारी पूर्ण नहीं होती है: भूपेश बघेल, पीसीसी अध्यक्ष

राहुल गांधी का बस्तर प्रवास हमारे लिए कई मायनों में अहम है। उनके छग में आने से कांग्रेस में नई जान आ गई है। इसका असर बस्तर में देखने को मिल रहा है। मेरा मानना है कि सभी कार्यकर्ता अपने समर्थकों के साथ कम से कम पचास से सौ लोगो को लेकर राहुल जी की सभा में पहुंचे। इससे न सिर्र्फ सभा सफल होगी, राहुल जी की बातों का भी गली मोहल्ले तक उल्लेख हो: टीएस सिंह देव, नेता प्रतिपक्ष, छग शासन

बस्तर को दो परिवारों ने खुलकर लूटा है, यहां पर राजीव गांधी ने पंचायती राज के जरिए आदिवासियों के लिए अधिकार सुरक्षित किया था। रमन सरकार ने हमारे लोगो को अधिकार से वंचित किया है। ऐसी सरकार जो परिवहन के रोजगार से जुड़े हजारों के पेट पर लात मार सकती है, जिसके आतंक से आदिवासी पलायन कर रहे हों उसका बदलने सभी को एकजुट होना होगा: कवासी लखमा, विधायक कोंटा

ये रहे मौजूद

विधायक मोहन मरकाम, लखेश्वर बघेल, दीपक बैज, महापौर जतीन जायसवाल, फूलो देवी नेताम, मिथिलेश स्वर्णकार, रेखचंद जैन, उमाशंकर शुक्ला, हेमू उपाध्याय, बलराम यादव, सुशील मौर्य, जिशान कुरैशी, शहबाज खान, सद्दाम रजा, दीपक कर्मा, छबिन्द्र कर्मा, अनवर खान, दिनेश यदु, शांति सलाम, कविता साहू, सरला तिवारी, सामू कश्यप, सफीरा साहू, अमजद खान, ओंकार जायसवाल, अतिरिक्त शुक्ला, कौशल नागवंशी सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी मौजूद थे।

Back to top button