NIA की पूछताछ में 2 महिलाओं ने बताई लव जिहाद और धर्म परिवर्तन की आपबीती

केरल में लव जिहाद को लेकर केंद्र सरकार और राज्य की CPM सरकार के बीच घमासान छिड़ा हु्आ है, लेकिन इसके बावजूद यह रुकने का नाम नहीं ले रहा है. हाल ही में इस्लाम में धर्मपरिवर्तन करने वाली दो महिलाओं ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को लव जिहाद और धर्म परिवर्तन की आपबीती सुनाई है.

उन्होंने बताया कि उनका धर्म परिवर्तन प्रलोभन देकर कराया गया. NIA की जांच में खुलासा हुआ है कि केरल में बेहद सिस्टमेटिक तरीके से लव जिहाद को अंजाम दिया जा रहा है.

केरल के कासरगोड निवासी अथिरा उर्फ आएशा और लाक्कड निवासी अथिरा नम्बिअर ने पिछले सप्ताह NIA को बताया कि उनको बहकाकर उनका धर्म परिवर्तन कराया गया.

आजतक से बातचीत में NIA के एक सीनियर अफसर ने बताया कि हमने दोनों महिलाओं से बात की है, जिन्होंने बताया कि उनको प्रलोभन देकर धर्म परिवर्तन कराया गया. हालांकि दोनों ने यह भी कहा कि उनके साथ धर्म परिवर्तन के लिए जबरदस्ती नहीं की गई. इन दोनों महिलाओं के परिजनों का कहना है कि इनका साजिशन धर्मपरिवर्तन कराया गया. फिलहाल जांच एजेंसी को इस धर्मांतरण में किसी तरह के आतंकी कनेक्शन के सबूत नहीं मिले हैं.

दोबारा से हिंदू धर्म अपनाने वाली अथिरा उर्फ आएशा ने पूछताछ में बताया कि वह विवादित इस्लामिक उपदेशक और वांटेड जाकिर नाइक के प्रभाव में आ गई थी. अथिरा का कहना है कि वह मुस्लिम दोस्तों के भी बहकावे में आ गई थी. इसके अलावा दूसरी महिला ने बताया कि वह एक मुसलमान के साथ भाग गई थी. शादी के लिए उसका धर्म परिवर्तन कराया गया.

इन दोनों मामलों में NIA को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के शामिल होने की आशंका थी. इसके अलावा NIA मामले में PFI की महिला विंग नेशनल वोमेन्स फ्रंट की अध्यक्ष मलालप्पुरम सैनाबा की भूमिका की भी जांच कर रही है.

जांच एजेंसी इस पहलू की भी जांच कर रही है कि क्या NWF गुपचुप तरीके से महिलाओं के इस्लाम में धर्म परिर्तन कराने में सक्रिय है. साल 2009 में केरल में NWF की स्थापना मुस्लिम महिलाओं के उत्थान के लिए हुई थी, लेकिन बाद में यह अपनी विचारधारा थोपने के साथ ही गैर मुस्लिम महिलाओं के धर्मांतरण में जुट गई. इस संगठन पर अपनी तमाम शाखाओं के जरिए हदिया और अथिरा जैसी महिलाओं के धर्मांतरण कराने का आरोप है.

हदिया के पिता ने केरल हाईकोर्ट में याचिका दायर करके आरोप लगाया था कि उनकी बेटी का जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया. उन्होंने यह भी आशंका जताई थी कि उनकी बेटी को सीरिया ले जाया गया. मालूम हो कि केरल में लव जिहाद को लेकर केंद्र की बीजेपी और राज्य की लेफ्ट सरकार के बीच तीखी बहसबाजी जारी है. राज्य सरकार ने अंतर-धार्मिक विवाहों की एनआईए से जांच कराने का कड़ा विरोध किया.

एनआईए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केरल पुलिस ने अंतर-धार्मिक विवाहों के 94 मामले NIA को सौंपे हैं. हालांकि सभी मामले लव जिहाद के नहीं हैं, लेकिन माना जा रहा है कि कम से कम 23 मामले लव जिहाद से जुड़े हो सकते हैं, जिसमें गैर मुस्लिम महिलाओं का जबरन धर्मांतरण कराया गया.

एनआईए ने अपनी जांच में पाया कि साल 2014 में चार गैर मुस्लिम महिलाओं का इस्लाम में धर्म परिवर्तन कराया गया, जो बाद में आतंकी संगठन आईएस में शामिल होने के लिए अफगानिस्तान चली गई थीं. मामले में NIA अब तक PFI के 40 कार्यकर्ताओं से पूछताछ कर चुकी है.

1
Back to top button