बिज़नेस

नई ऊंचाई पर पहुंचा निफ्टी, 10 हजार के स्तर को छुआ

नैशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी पहली बार 10,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार पहुंच गया। घरेलू स्टॉक एक्सचेंजों का सूचकांक आज नई ऊंचाई पर पहुंच गया और धातु शेयरों में तेजी और कंपनियों के तिमाही नतीजों से निवेशकोंं की धारणा को बल मिला है।

निफ्टी 56 अंक चढ़कर 10,020 पर बंद हुआ और बंबई स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 154 अंक चढ़कर 32,382 के सर्वकालिक उच्च स्तर पर बंद हुआ। सोमवार को कारोबार के दौरान निफ्टी ने पहली बार 10,000 के स्तर को छुआ था।

दिलचस्प है कि निफ्टी ने 9,000 से 10,000 तक का सफर महज 92 कारोबारी दिनों में तय किया। हालिया 1,000 अंकों की तेजी में विदेशी निवेशकों (एफआईआई) और म्युचुअल फंडों का अहम योगदान रहा।

14 मार्च से जब निफ्टी ने 9,000 के स्तर को पार किया था तब से अब तक एफआईआई ने 38,000 करोड़ रुपये का जबकि म्युचुअल फंडों ने 42,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एएमसी के सीआईओ एस नरेन ने कहा, ‘हमारा मानना है कि शेयर बाजार मिड-साइकिल में है और निवेशकों को शेयरों में निवेश जारी रखने की सलाह दी गई है। अगले दो से तीन वर्षों में शेयर बाजार में अच्छी वृद्धि की उम्मीद है।

वैसे, हमारा मानना है कि प्राइस-टु-अर्निंग अनुपात इसके दीर्घावधि के औसत से अधिक हो सकता है।’ इस साल अब तक सेंसेक्स और निफ्टी ने करीब 22 फीसदी का रिटर्न दिया है, जो एसएसीआई इमर्जिंग मार्केट इंडेक्स में तेजी के अनुरूप है।

हालांकि जीएसटी से निकट अवधि में थोड़ा असर पड़ सकता है लेकिन विश्लेषकों को उम्मीद है कि आने वाली तिमाहियों में कंपनियों की आय में तेजी आएगी।

हालांकि मंदडिय़ा खेमा निवेशकों को सतर्क रहने की सलाह दे रहा है। उनका कहना है कि आने वाले समय में वैश्विक बाजार में कुछ उतार-चढ़ाव देखा जा सकता है। इसके पीछे वह उच्च रिटर्न और विकसित बाजारों में केंद्रीय बैंकों द्वारा तरलता कम करने की आशंका का हवाला दे रहे हैं।

अग्रणी घरेलू ब्रोकरेज शेयरखान के मुख्य कार्याधिकारी जयदीप अरोड़ा ने कहा, ‘यह वैश्विक तेजी से अधिक है और भारत ने पिछले सात महीनों में विदेशी निवेश का अच्छा-खासा हिस्सा हासिल किया है।’

उन्होंने कहा, ‘अगर आने वाली तिमाहियों में कंपनियों की आय में सुधार नहीं हुआ तो धारणा पर असर पड़ सकता है।

ऐसे में निवेशकों को सलाह है कि वे रणनीतिक तौर पर सावधानी से शेयरों का चयन करें और गिरावट का फायदा उठाने के लिए कुछ पैसे बचाकर रखें।’

Tags
Back to top button