निपुण भारत अभियान : कक्षा तीसरी तक के बच्चों को 2026-27 तक आधारभूत शिक्षा का लक्ष्य

निपुण भारत अभियान के तहत आगामी 5 वर्षों 2026-27 तक कक्षा तीसरी के प्रत्येक बच्चे को आधारभूत शिक्षा प्रदान करने का लक्ष्य है।

रायपुर, 05 जुलाई 2021 : निपुण भारत अभियान के तहत आगामी 5 वर्षों 2026-27 तक कक्षा तीसरी के प्रत्येक बच्चे को आधारभूत शिक्षा प्रदान करने का लक्ष्य है। केन्द्र सरकार शिक्षा विभाग एवं साक्षरता विभाग द्वारा आज निपुण भारत अभियान का वर्चुअल उद्घाटन केन्द्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक के द्वारा केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री संजय धोत्रे, शिक्षा एवं साक्षरता विभाग की प्रमुख सचिव डॉ. अनिता करवाल और सभी शिक्षा विभाग की कार्यालयों की उपस्थिति में हुआ।

इस अवसर पर वर्चुअल मीटिंग में छत्तीसगढ़ से स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह, संयुक्त संचालक संजीव श्रीवास्तव, सहायक संचालक समग्र शिक्षा डॉ. एम. सुधीश, सहायक संचालक साक्षरता प्रशांत पाण्डेय, कार्यक्रम समन्वयक समग्र शिक्षा आशीष गौतम और समग्र शिक्षा का समस्त स्टाफ उपस्थित था।

निपुण भारत अभियान का प्रमुख उद्देश्य खेल-खोज और गतिविधि पर आधारित शिक्षा शास्त्र बनाना, स्वतंत्र समझ के साथ बच्चों को पढ़ने-लिखने में प्रेरित करना और लिखने-पढ़ने के स्थायी कौशल बनाना। बच्चों को संख्या माप और आकार के क्षेत्र को तर्क के साथ समझने, उन्हें गणना और समस्या के समाधान में स्वतंत्र बनाना है।

बच्चों को परिचत घर/मात्रभाषा भाषाओं में शिक्षण सामग्री की उपलब्ध सुनिश्चित करना। शिक्षकों प्रधानाध्यापकों और शिक्षा प्रशासकों का क्षमता निर्माण करना। आजीवन सीखने की एक मजबूत नींव बनाना। पोर्टफोलियो समूह और मिल-जुलकर किये गए कार्य, प्रश्नोत्तरी, रोल-प्ले, खेल मौखिक प्रस्तुतीकरण छोटे टेस्ट आदि के माध्यम से सीखना आदि है।

निपुण भारत का मिशन में आधारभूत साक्षरता और संख्यात्मक तक सभी के लिए सुलभ बनाने के लिए एक सक्षम वातावरण बनाना है, ताकि 2026-27 तक प्रत्येक बच्चा कक्षा-3 तक पढ़ने-लिखने और गणित में वांछित सीखने की क्षमता प्राप्त कर सकें और आधारभूत शिक्षा के लिए सीखने के परिणामों के विकास लक्ष्यों को प्राप्त किया जा सके।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button