राष्ट्रीय

श्याम वेताल (दो टूक) : लालू के पाप-कुंड से मुक्ति पाई नीतीश ने

श्याम वेताल

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा देने के साथ ही नीतीश कुमार स्वयं, जेडीयू और बिहार राज्य लालू परिवार के पाप-कुंड से मुक्त हो गए. अपवित्र गठबंधन 20 महीने तक चल गया, यह अपने आप में रिकॉर्ड है. राज्यपाल को त्यागपत्र देने के बाद नीतीश कुमार ने अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा कि मैंने जहां तक संभव था, गठबंधन धर्म का पालन किया लेकिन अब उस माहौल में काम करना संभव नही था.
नीतीश ने यह भी कहा कि मैने कभी तेजस्वी यादव का इस्तीफा नहीं मांगा. मैंने सिर्फ कहा था कि अपने पक्ष में सफाई दे क्यों कि आम जनता के बीच जो अवधारणा फैल रही है उसके लिए सफाई देना जरुरी है. लेकिन राजद ने मेरी नहीं सुनी. ऐसी परिस्थिति में मुझे यही कदम उचित लगा.
सच्चाई यह है कि राजद और जेडीयू के बीच मतभेद उसी समय शुरू हो गए थे जब नीतीश कुमार ने नोटबंदी का समर्थन कर दिया था. इसके बाद रामनाथ कोविंद की उम्मीदवारी को नीतीश ने बिहार का गौरव बताते हुए समर्थन किया तो उसे भी सहयोगी दल ने अनुचित बताया. अब तेजस्वी वाले मुद्दे ने दोनों दलों के बीच खाई काफी चौड़ी कर दी.
हालांकि 20 माह पूर्व जब यह गठबंधन हुआ था उसी समय लोगों ने यह आशंका प्रकट की थी कि यह ज्यादा दिन नही चलेगा. लालू यादव की पार्टी राजद और नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के बीच कोई समानता थी ही नहीं.
बाहरहाल, बिहार में आगे क्या होगा उस प्रश्न का उत्तर बहुत कठिन नही है. बिहार के मध्यावधि चुनाव न भाजपा चाहती है और न ही जेडीयू. जेडीयू के पास 72 सीटें हैं और भाजपा तथा सहयोगी दलों की 58 सीटें हैं दोनों मिल जाए तो राज्य में मजबूत सरकार बन सकती है भाजपा ने प्रकारांतर से यह स्पष्ट कर दिया है कि यह नीतीश को समर्थन दे देगी. अतः बहुत जल्दी बिहार में नीतीश के नेतृत्व में नयी सरकार शपथ लेगी जिसे भाजपा का समर्थन प्राप्त होगा. नीतीश कुमार ने भी यह संकेत दिया कि जो बिहार के हित में होगा, उसी रास्ते पर चलेंगे. उधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीतीश के इस्तीफे पर बधाई दी है.

Tags
Back to top button