पटना में नीतीश कुमार-अमित शाह की मुलाक़ात, एक साथ किया ब्रेकफास्‍ट

सीट बंटवारे पर बातचीत के आसार

नई दिल्ली: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह गुरुवार को पटना पहुंचे हैं. जहां उन्‍होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ ब्रेकफ़ास्ट किया और फिर रात में डिनर पर भी मुलाक़ात होगी.

बीजेपी-जेडीयू सरकार बनने के बाद अमित शाह की नीतीश से ये पहली मुलाक़ात है. माना जा रहा है कि इस मुलाकात में 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए सीटों के बंटवारे पर बात होगी. यानी बड़े भाई और छोटे भाई की भूमिका तय होगी. नीतीश ने पहले ही साफ़ कर दिया है कि अगर वो सीटों के बंटवारे से संतुष्ट नहीं होंगे तो आगे सोचेंगे.

रात का भोजन नीतीश कुमार के वर्तमान आवास 7, सर्कुलर रोड पर होगा. यहां भी बिहार भाजपा के कुछ गिने चुने नेता आमंत्रित हैं. लेकिन जहां तक सीटों के बंटवारे पर चर्चा का सवाल है, भाजपा और जेडीयू के नेता मानते हैं कि कोई अंतिम फ़ैसला दो बैठकों में करना बेकार है.

हां, मुलाक़ात के साथ चर्चा शुरू हो जाएगी लेकिन कब तक नीतीश कुमार को उनके मनमाफ़िक सीटें दी जाएंगी ये सब कुछ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के ऊपर निर्भर करता है.

भाजपा के नेताओं का कहना है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पहले अपने कार्यकर्ताओं और नेताओं के साथ बातचीत कर अपनी असल स्थिति और नीतीश कुमार के आने के बाद की ज़मीनी स्थिति का आकलन करेंगे. उसके बाद जेडीयू कितने सीटों पर दावा पेश करता है उसका इंतज़ार किया जाएगा.

फ़िलहाल पार्टी के बिहार के अधिकांश नेताओं का मानना है कि नीतीश के साथ चलना बेहतर है. अगर नीतीश एनडीए से अलग हुए तो महागठबंधन को उसका लाभ मिलेगा. वहीं जेडीयू के नेता मान कर चल रहे हैं कि भाजपा सीटों के मामले पर जल्द अपना मन नहीं बताने वाली.

उनका कहना है कि अमित शाह अगर नाश्‍ता और डिनर दोनों नीतीश कुमार के साथ करने को तैयार हैं तब उसका मतलब फ़िलहाल उनका मन नीतीश को साथ रखने का है ना कि उन्हें अलग चुनाव लड़ने के लिए मजबूर करने का.

Back to top button