नीतीश कुमार और सुशील कुमार मोदी ने मेरे आवास में भूत भेज दिया थाः तेज प्रताप यादव

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने कहा कि उन्होंने पिछले सप्ताह अपना आधिकारिक आवास छोड़ दिया क्योंकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें भगाने के लिए यहां भूत छोड़ दिया था।

पटना: आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने कहा कि उन्होंने पिछले सप्ताह अपना आधिकारिक आवास छोड़ दिया क्योंकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उन्हें भगाने के लिए यहां भूत छोड़ दिया था।

तेज प्रताप ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने वह कोठी छोड़ने का फैसला किया क्योंकि नीतीश और उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने इसमें भूत छोड़ दिया था। वे भूत मुझे परेशान कर रहे थे।’

तेज प्रताप अति-धार्मिक और अंधविश्वासी माने जाते हैं। उनके करीबियों ने कहा कि तेज प्रताप ने पिछले साल जून महीने में अपने आवास पर ‘दुश्मन मारन जाप’ भी करवाया था जब केंद्रीय जांच एजेंसियां उनके परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रही थीं। तेज प्रताप ने पंडितों की सलाह पर इसी आधिकारिक आवास का दक्षिण दिशा की तरफ खुलनेवाला दरवाजा भी बंद करवा दिया था।

आरजेडी प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने कहा कि तेज प्रताप ने दूसरा नोटिस मिलने के बाद बंगला खाली करने का फैसला किया। पार्टी के एक सूत्र ने बताया कि पिछले साल अक्टूबर में आए नोटिस में 15 गुना किराया वसूले जाने की चेतावनी दी गई थी। हालांकि, भवन निर्माण मंत्री रामेश्वर हजारी ने कहा कि तेज प्रताप ने उनके विभाग को आवास खाली करने की जानकारी नहीं दी है।

3 देशरत्न मार्ग पर स्थित यह सरकारी आवास तेज प्रताप को तब आवंटित किया गया था जब वह महागठबंधन की सरकार में स्वास्थ्य मंत्री बने थे। 243 सीटों वाली बिहार विधानसभा के लिए अक्टूबर-नवंबर 2015 में हुए चुनाव में आरजेडी-जेडी(यू) और कांग्रेस के महागठबंधन को कुल 178 सीटें जबकि बीजेपी को 53 सीटें मिली थीं।

करीब 20 महीने तक साझी सरकार चलाने के बाद नीतीश कुमार ने महागठबंधन से नाता तोड़ लिया और 27 जुलाई 2017 को दोबारा बीजेपी के साथ सरकार बना ली। अगले ही महीने अगस्त में राज्य भवन निर्माण विभाग ने आरजेडी और कांग्रेस के पूर्व मंत्रियों को आधिकारिक आवास खाली करने के नोटिस भेज दिए।

Back to top button