न सिविलियन, न सेना सिर्फ आतंकी थे टारगेट: विदेश सचिव

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के घर CCS की बैठक हुई जिसमें रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और एनएसए अजीत डोभाल मौजूद थे

नई दिल्ली।

पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक कर पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है. विदेश सचिव विजय गोखले ने इस पूरे ऑपरेशन के बारे में देश को जानकारी दी. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के घर CCS की बैठक हुई जिसमें रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और एनएसए अजीत डोभाल मौजूद थे.

विदेश सचिव की प्रेस कॉन्फ्रेंस में विजय गोखले ने कहा कि 14 फरवरी को पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने पुलवामा में आतंकी हमला किया था, जिसमें हमारे 40 जवान शहीद हुए थे.

इससे पहले पठानकोट में भी जैश की तरफ से आतंकी हमला किया गया था. पाकिस्तान हमेशा इन संगठनों की अपने देश में मौजूदगी से इनकार करता आया है. पाकिस्तान को कई बार सबूत भी दिए गए लेकिन उसने आतंकी संगठन के खिलाफ आजतक कोई कार्रवाई की.

0-भारत में आतंकी वारदात के फिराक में था जैश

जैश भारत के कई हिस्सों में आतंकी वारदातों को अंजाम देने की फिराक में था और इसके लिए फिदायीन आतंकियों को ट्रेनिंग दी जा रही थी. इस खतरे से निपटने के लिए भारत के लिए एक स्ट्राइक करना बेहद जरूरी हो गया था.

हमने खुफिया जानकारी के आधार पर आज सुबह बालाकोट में एयर स्ट्राइक की है जिसमें जैश के कमांडर समेत कई आतंकियों को ढेर किया गया है. यह एक असैन्य कार्रवाई थी जिसमें आतंकी संगठनों को निशाना बनाया गया है.

0-20 साल से पाक रच रहा साजिश

गोखले ने बताया कि 20 साल से पाकिस्तान आतंकी साजिश रच रहा था और आतंकी संगठनों पर आजतक कोई कार्रवाई नहीं की गई थी. उन्होंने कहा कि इस कार्रवाई में न किसी सिविलियन और न सेना को टारगेट किया गया है बल्कि हमारे निशाने पर आतंकी कैंप थे.

गोखले ने कहा कि बालाकोट में इस कैंप का प्रमुख जैश सरगना का रिश्तेदार मौलाना यूसुफ अजहर था, साथ ही किसी नागरिक को नुकसान न हो इसके लिए पहाड़ी से इस स्ट्राइक को अंजाम दिया गया है.

Back to top button