निगम का डिवाइडर तुड़वाने वाले दंबगों के खिलाफ कोई बोलने तैयार नहीं

अंकित मिंज

बिलासपुर।

सत्ता परिवर्तन के बाद खुलकर दादागिरी शुरू हो गई है। दहशत इस कदर है कि अपर आयुक्त के निर्देश पर रिंगरोड टू गौरवपथ के डिवाइडर को ढहाकर निगम प्रशासन को चुनौती देने वालों का पता लगाने पहुंचे निगम के कार्यपालन अभियंता को बैरंग लौटना पड़ा। किसी ने भी उन दबंगों के बारे में जानकारी नहीं दी। निगम प्रशासन के अफसर अब टूटे डिवाइडर का स्टीमेट तैयार कर इसे भराने और आगे की कार्रवाई के लिए निगम आयुक्त के वापस आने की प्रतीक्षा करने की बात कहकर पल्ला झाडऩे की कोशिश कर रहे हैं।

रिंग रोड टू गौरव पथ रोड पर बने डिवाइडर को ढहाने की खबर के बाद खलबली मच गई है। निगम के अपर आयुक्त आरबी वर्मा ने शनिवार को कार्यपालन अभियंता पीके पंचायती को तलब कर इस मामले में जवाब -तलब किया और उन्हें मौके पर जाकर पता लगाने और जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही। कार्यपालन अभियंता के मुताबिक उन्होंने सामने किराना दुकान, पान ठेला संचालक, भाटिया फ्यूल के कर्मचारियों और सामने चंदेला कॉलोनी के रहवासियों से पूछताछ की कि आखिर इस डिवाइडर को किसने तुड़वाया है।

जिससे उन्हें बैरंग लौटना पड़ा। जांच की खानापूर्ति और बयानबाजी के बाद अब निगम के अफसर स्टीमेट बनवाकर इस डिवाइडर को फिर से बनवाकर भरवाने की बात कह रहे हैं, उनका कहना है कि अब कार्रवाई के संबंध में निगम आयुक्त के वापस आने के बाद निर्णय लिया जाएगा। इस घटना ने एक बार फिर निगम प्रशासन को चुनौती देने वाली स्थिति पैदा कर दी है यही वजह है कि निगम के अफसर इस मामले में सीधे तौर पर कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं।

पहले भी कर चुके हैं साहस

निगम की संपत्ति को क्षति पहुंचाकर निगम प्रशासन को खुली चुनौती देने का यह पहला मामला नहीं है। इसके पहले भी पूर्व मंत्री राजेश मूणत के नगरीय प्रशासन मंत्रित्व काल में अग्रसेन चौक के पास के एक हॉटल संचालक सड़क पर लगे भारी भरकम स्वागत द्वार को हॉटल की सुंदरता ढकने के कारण कटवा दिया था। इस बात की जानकारी होने पर जब तत्कालीन मंत्री मूणत भड़के और अफसरों से इसको लेकर जवाब .तलब किया एक अफसर को अपोलो में भर्ती कराना पड़ा था।

यातायात डीएसपी ने पूछा कहां और किसने तोड़ा

चौक-चौराहों पर बेरीकेट्स और रस्सा बांधकर आम आदमी को यातायात का नियम बता किलो- दो किलोमीटर तक घुमाने वाले यातायात पुलिस के अफसरों का रवैया भी इस मामले में गजब है। यातायात विभाग के अफसरों को इसके संबंध में जानकारी तक नहीं है। इस मामले में अनभिज्ञता जताते हुए यातायात विभाग के डीएसपी ए कुजूर का कहना है कि न कोई सूचना मिली है और नहीं कोई शिकायत आई है पता लगने पर एफआईआर कराया जाएगा।

होगी कार्रवाई

अपर आयुक्त के निर्देश पर मौके पर गया था पूछताछ की परंतु किसी ने कुछ नहीं बताया कि डिवाइडर को तोड़ा किसने है, या तो चंदेला विहार वालों ने या फिर पेट्रोल पंप वाले ने इस डिवाइडर को तोड़ा होगा ऐसा लगता है। फिर से डिवाइडर को पैक कराएंगे और निगम आयुक्त के आने के बाद मामले में कार्रवाई की जाएगी।

पीके पंचायती, कार्यपालन अभियंता, नगर निगम बिलासपुर

आयुक्त के आने पर लिया जाएगा निर्णय: मैंने कार्यपालन अभियंता को जांच के लिए मौके पर भेजा है, उन्होंने अभी तक कोई रिपोर्ट नहीं दी है, स्टीमेट बनाकर फिर से डिवाइडर को भराने के लिए कहा गया है अब निगम आयुक्त के आने के बाद इस मामले में आगे कार्रवाई का निर्णय लिया जाएगा।
आरबी वर्मा, अपर आयुक्त नगर निगम

new jindal advt tree advt
Back to top button