छत्तीसगढ़

नो-प्लास्टिक अभियान: 3 दिवसीय प्रदर्शनी मैरिन ड्राईव में प्रारंभ

विश्व पृथ्वी दिवस पर पर्यावरण संरक्षण मंडल का नो-प्लास्टिक पर जागरूकता अभियान

रायपुर : छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल द्वारा 22 अप्रैल विश्व पृथ्वी दिवस के अवसर पर नो-प्लास्टिक पर सघन जन-जागरूकता अभियान शुरू किया गया है। इसके अन्तर्गत 22 अप्रैल को रायपुर के मैरिन ड्राईव, तेलीबांधा रायपुर में 3 दिवसीय प्रदर्शनी लगाई गई है। प्लास्टिक के उपयोग के दुष्परिणामों पर आधारित अनेक रोचक पोस्टरों प्रदर्शनी में लगाई गई है। समुद्री जीव जन्तुओं पर प्लास्टिक के दुष्परिणाम, जमीन की कम होती उर्वरा शक्ति एवं प्लास्टिक को जलाने से निकलने वाली विषैली गैसों के संबंध में भी पोस्टर प्रदर्शित किये गये। यह प्रदर्शनी 23 एवं 24 अप्रैल को भी आम जनता के लिए उपलब्ध रहेगी।

पर्यावरण संरक्षण मंडल के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि 22 अप्रैल को मैरीन ड्राईव में आयोजित प्रदर्शनी में नागरिकों को प्लास्टिक का उपयोग नहीं करने की शपथ भी दिलाई जा रही है। शपथ लेने वाले व्यक्तियों को कपड़े के थैले मंडल द्वारा वितरित किये गये। इस अवसर पर भारतमाता इंग्लिश मीडियम स्कूल, बिलासपुर के इको क्लब के बच्चों द्वारा नुक्कड़ नाटक का प्रदर्शन किया गया। बच्चों द्वारा जन-जागरूकता संबंधी संदेश देने के लिए बहुत बड़ी पेन्टिग भी तैयार की गई। आम जनता के लिए शार्ट फिल्मस् का प्रदर्शन भी किया गया।

पर्यावरण संरक्षण मंडल द्वारा मैरीन ड्राईव के अलावा शहर के मैग्नेटा मॉल, सिटी सेंटर पंडरी एवं अंबुजा मॉल में प्लास्टिक के कैरी बैग्स सहित अन्य प्लास्टिक के दुष्प्रभावों की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए नो-प्लास्टिक पर पोस्टर लगाये गये। यहां भी जन-जागरूकता के लिए शार्ट फिल्मस् का प्रदर्शन किया गया। मॉल्स में मंडल के स्टाल भी 3 दिन के लिए लगाये गये हैं।

विदित हो कि रायपुर सहित प्रदेश के बड़े शहरों में प्लास्टिक से हो रहे प्रदूषण को खत्म करने के लिए मंडल द्वारा कड़े कदम उठाये जा रहे हैं। इसी कड़ी में लोगों को जागरूक करने के लिए इस विशेष अभियान का आयोजन विश्व पृथ्वी दिवस का आयोजन मंडल द्वारा किया गया है। इस कार्यक्रम में मंडल के अतिरिक्त सचिव पी. अरूण प्रसाद सहित मंडल के वरिष्ठ अधिकारी एवं आम नागरिक बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.