छत्तीसगढ़

पाइप बिछाने निगम के प्रस्ताव को एनएच ने नहीं दी मंजूरी

भिलाई । नगर निगम निर्माणाधीन 66 एमएलडी फिल्टर प्लांट से छावनी तक पाइप लाइन तो बिछाना चाहता है । उसने इसके लिए ठीक से प्रस्ताव बनाकर नेशनल हाईवे को नहीं दिया। नेशवल हाईवे डिवीजन के एई जयंत वर्मा ने वीएनएस से कहा कि निगम को कहां से पाइप लाइन गुजारना है इसकी पूरी जानकारी नहीं दी गई है। ड्राइंड डिजाइन भी नहीं दिया इसलिए अभी उन्हें खुदाई की अनुमति नहीं दी गई है। पूरी जानकारी मिलने के बाद ही प्रस्ताव दिल्ली भेजा जाएगा और वहीं से अनुमति मिलेगी।
00 लापरवाही के कारण रुका 175 करोड़ का प्रोजेक्ट :
प्रस्ताव में पाइप डालने के लिए कितना गहरा गड्ढा खोदना है, नेशनल हाईवे से उसकी दूरी कितनी होगी और ड्राइंग डिजाइन सहित अन्य जानकारियां होनी थी। इसके अभाव में नेशनल हाईवे से उसे खुदाई का परमिशन नहीं मिला है। प्रस्ताव में कुछ परिवर्तन भी किया जा रहा है, इसकी वजह से परमिशन मिलने में और देर होगी। इस सब में करीब 175 करोड़ के इस प्रोजेक्ट में डेढ़ से दो साल तक की देरी हो सकती है। प्रोजेक्ट दो साल में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था। एक साल बीत चुका है।
अमृत मिशन योजना के तहत भिलाई के उन इलाकों में पानी पहुुंचाना है जहां पानी की किल्तत है। गर्मी के दिनों में उन्हें पेयजल की सप्लाई केवल पानी टैंकर के माध्यम से करनी पड़ती है। भिलाई के कई आउटर वार्ड इसी तरह के हैं जहंा बोर सूख जाते हैं। पुरैना, कोहका बस्ती, डूंडेरा, नेवई सहित पूरे आउटर पानी के लिए तरसते हैं। प्रोजेक्ट पर यदि तेजी से काम नहीं हुआ तो इस साल भी लोगों को इस समस्या से निजात नहीं मिलेगी। प्रस्ताव बनाते समय निगम के इंजीनियरों ने तकनीकी पक्षों का ध्यान नहीं रखा। इसलिए नेशनल हाईवे ने उसे वापस लौटा दिया। अब दोबारा रूट तय किया जा रहा है तो इसे भी अनुमति मिलने में देर होगी।
एक साल पहले जुलाई में शुरू हुए प्रोजेक्ट में 24 माह में पाइप लाइन बिछाने का लक्ष्य रखा गया था। अब केवल दस माह ही रह गए हैं। करीब 353 किमी लंबी पाइप लाइन बिछाना है। अब जब इसका रूट ही तय नहीं हुआ है तो संभावना खत्म हो गई है कि अगले दस माह में पाइप लाइन बिछ जाएगा।
नगर निगम भिलाई के अधीक्षण यंत्री सत्येंद्र सिंह ने कहा कि हमने पूरा प्रस्ताव और जानकारी दे दी है। केवल ड्राइंग डिजाइन देना बाकी है उसे भी जल्द दे दी जाएगी। पाइप लाइन बिछाने के लिए रूट में कुछ परिवर्तन किया जा रहा है। यह तकनीकी रूप से सही है। हम इस प्रोजेक्ट पर काम तेजी से कराएंगे।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.