नोबल पुरस्कार से सम्मानित अभिजीत बनर्जी 14 और 15 नवंबर को रायपुर में, राष्ट्रीय शिक्षा समागम कार्यक्रम होंगे शामिल…

रायपुर. नोबल पुरस्कार से सम्मानित अभिजीत बनर्जी रायपुर में 14 और 15 नवंबर को आयोजित पंडित जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय शिक्षा समागम शिरकत करेंगे। शिक्षा समागम में देश के कई ख्याति प्राप्त शिक्षाविद् भी शामिल होंगे। स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से राष्ट्रीय शिक्षा समागम की तैयारियां जोर-शोर से की जा रही हैं। स्कूल शिक्षा विभाग के संयुक्त सचिव व एससीईआरटी डायरेक्टर राजेश सिंह राणा ने मंगलवार को एससीआरटी में स्थापित स्टेट मीडिया सेंटर में शिक्षा समागम की तैयारियों के संबंध में आयोजित एक बैठक में यह जानकारी दी।

उल्लेखनीय है कि पं. जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय शिक्षा समागम छत्तीसगढ़ में 14 एवं 15 को आयोजित है। इसके सफल संचालन और व्यापक प्रचार प्रसार के लिए स्टेट मीडिया सेंटर की स्थापना की गई। यहां प्रिंट मीडिया, सोशल मीडिया एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सेल का गठन किया गया है। राणा ने बताया कि इस कार्यक्रम में अन्य राज्यों के स्कूल शिक्षा मंत्री, सचिव व डायरेक्टर स्तर के अधिकारी, शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत एनजीओ और अन्य राज्यों के नवाचारी शिक्षक भी इस कार्यक्रम में भाग लेंगे।

नोबल पुरस्कृत अभिजीत बनर्जी इस कॉनक्लेव में शामिल होंगे, जिन्होंने शिक्षा और समाज के क्षेत्र के साथ वैश्विक गरीबी को दूर करने प्रयोगात्मक दृष्टिकोण और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए हैं। नोबल पुरस्कृत अभिजीत बनर्जी को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अमेरिका प्रवास के दौरान अमेरिका के मैसाचुसेट्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) केम्ब्रिज में मुलाकात की थी, मुख्यमंत्री ने राज्य में कोरोना समय के शैक्षिक व्यवस्था के साथ कई बड़ी योजनाओं सहित राज्य के नवीन परियोजनाओं के बारे में बताया। कोरोना समय में छत्तीसगढ़ में पढ़ई तुंहर दुआर जो काफी चर्चित रहा।

एससीईआरटी डायरेक्टर ने मीटिंग में कहा 14 एवं 15 नवम्बर के कार्यक्रम में बहुभाषा किताब, छत्तीसगढ़ के 36 विभूति एवं सजेस के नवाचारी पुस्तकों को लांच किया जाएगा। शिक्षा समागम कार्यक्रम के दौरान विजन-2030 का निर्माण करने, क्या होंगे गोल और उसे कैसे प्राप्त करेंगे इसके लिए विचार-विमर्श किया जाएगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button