भाजपा ही नहीं पूरा देश चाहता है भव्य राम मंदिर का निर्माण -शाह

जनवरी माह तक के लिए टला राम मंदिर निर्माण

नई दिल्ली।

29 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मसले की सुनवाई को अगले वर्ष जनवरी माह तक के लिए टाल दिया था। एक कार्यक्रम के दौरान बोलते हुए अमित शाह ने कहा कि अयोध्या जमीन का विवाद है,

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया है। शाह ने कहा कि उन्हें इस बात का पूरा भरोसा है कि जनवरी माह में सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई होगी और फैसला जो भी हो कोर्ट को इस मामले पर जल्द फैसला देना चाहिए।

भाजपा ने साफ कहा है कि वह ठीक उसी जगह पर अयोध्या में राम का मंदिर चाहती है, यह ना सिर्फ भाजपा बल्कि पूरे देश की मांग है। यह मामला 2014 से सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। केंद्र और यूपी सरकार के वकीलों ने अपील की है कि कोर्ट इस मामले को प्राथमिकता से ले और इसपर सुनवाई करे।

अमित शाह ने कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट इस मामले में हर रोज सुनवाई करता है तो यह ऐसा मामला है जिसकी सुनवाई 10 दिन से अधिक नहीं चलेगी। शाह ने इस बात का भरोसा जताया है कि जल्द ही इस मामले में कोर्ट का फैसला आएगा।

वहीं केरल के सबरीमाला मंदिर मुद्दे पर शाह ने कहा कि सबरीमाला में लिंगभेद का विवाद नहीं है, बल्कि यह आस्था का विषय है। ऐसे तमाम विषय हैं जहां न्यायिक समीक्षा संभव नहीं है, इसे लोगों पर छोड़ देना चाहिए। मेरा व्यक्तिगत तौर पर मानना है कि लोगों के धार्मिक विश्वास को उनपर ही छोड़ देना चाहिए।

new jindal advt tree advt
Back to top button