आचार संहिता तोड़ने की शिकायत, मोदी सरकार के दो मंत्रालयों को चुनाव आयोग का नोटिस

नई दिल्ली। भारत निर्वाचन आयोग ने कथित तौर पर आचार संहित उल्लंघन मामले में मोदी सरकार के दो मंत्रालयों को नोटिस भेजा है। चुनाव आयोग को शिकायत मिली थी कि दो अलग-अलग मंत्रालयों रेल मंत्रालय और नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने कथित तौर पर आचार संहित का उल्लंघन किया है। शताब्दी ट्रेन में मैं भी चौकीदार लिखे कप में यात्रियों को चाय देने की एक तस्वीर वायरल होने के संबंध में चुनाव आयोग ने रेल मंत्रालय को नोटिस भेजा है और शनिवार तक जवाब मांगा है।

चुनाव आयोग ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय को भी एक नोटिस भेजा है और मदुरै एयरपोर्ट पर बोर्डिंग पास पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर देखे जाने को लेकर जवाब मांगा है। उड्डयन मंत्रालय को भी शनिवार तक अपना जवाब दाखिल करने को कहा गया है। इससे पहले 27 मार्च को चुनाव आयोग ने केंद्र से पूछा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाले रेलवे टिकट और बोर्डिंग पास क्यों वापस नहीं लिए गए हैं?

वहीं, चुनाव आयोग ने कांग्रेस द्वारा घोषित न्याय योजना पर नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार की प्रतिक्रिया से आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत पर उन्हें जवाब देने के लिये दो अप्रैल तक का समय दिया है। आयोग के सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि कुमार को दो अप्रैल तक जवाब देने के लिये अतिरिक्त समय दिया है। उल्लेखनीय है कि इस मामले में आयोग ने उनसे बृहस्पतिवार तक जवाब मांगा था।

उपचुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने बृहस्पतिवार को बताया था कि निर्धारित समय में जवाब नहीं दे पाने के कारण कुमार ने आयोग से अपना पक्ष रखने के लिये पांच अप्रैल तक का समय मांगा था। उन्होंने विदेश में होने के कारण जवाब देने में असमर्थता जाहिर की थी।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस द्वारा घोषित न्याय योजना के अंतर्गत निर्धन आय वर्ग के लोगों को 72 हजार रूपये सालाना सहायता राशि देने की चुनावी घोषणा को कुमार ने अर्थव्यवस्था के लिये नुकसानदायक बताते हुये इसे अव्यवहारिक भी बताया था। उनकी प्रतिक्रिया को चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन बताते हुये विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की थी।

Back to top button