भिलाई के खुर्सीपार के बाद अब रायपुर में मिले डेंगू के 13 नए मरीज!

रायपुर।

भिलाई के खुर्सीपार को अपनी जद में लेने के बाद डेंगू ने अगल-बगल पांव भी पसारना प्रारंभ कर दिया है। रायपुर के अस्पतालों में बुखार से ग्रसित मरीजों की संख्या अचानक बढ़ गई है। रायपुर में 13 नए मरीज चिन्हित किए गए हैं। सभी का इलाज मेडिकल कालेज में चल रहा है।

विभिन्न अस्पतालों में भी संभावित मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। इसमें कितने डेंगू पीड़ित हैं, यह कहना तो संभव नहीं है, पर स्थिति भयावह होती जा रही है। खौफ से खून की जांच कराने वालों की तादाद भी काफी बढ़ गई है। लैब पर जांच के लिए लंबी-लंबी कतारें लग रही हैं। आलम यह है कि यहां डेंगू का प्रकोप भले नहीं है, पर लोगों में दहशत बहुत ज्यादा है।

भिलाई के खुर्सीपार में डेंगू का भयावह प्रकोप है। एक सप्ताह के अंदर दो दर्जन के करीब मौतें हो चुकी हैं। पूरा का पूरा इलाका इससे पीड़ित है। डेंगू का प्रकोप धीरे-धीरे समीपवर्ती इलाकों में भी फैल रहा है। संयोग अच्छा था कि मंगलवार को किसी के मरने की सूचना नहीं मिली, पर स्थिति चिंताजनक बनी हुई है।

बात रायपुर की करें तो यहां भी बुखार के ग्रसित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। 13 नए मरीजों के डेंगू पीड़ित होने की पुष्टि हुई है। बाकी को संभावित श्रेणी में आधा दर्जन मरीज हैं। हालांकि प्रशासन व नगर निगम डेंगू से बचाव के लिए कमर कस चुका है।

स्कूली बच्चों को बताए गए लक्षण व बचाव के तरीके

रायपुर शहर को डेंगू से बचाने के लिए रायपुर स्मार्ट सिटी तथा रायपुर नगर निगम ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। मंगलवार को सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल, पं. दीनदयाल उपाध्याय नगर में लगभग 500 स्कूली बच्चों को डेंगू से बचाव के उपाय बताए गए। डेंगू अगर हो जाए तो उसके लक्षण क्या हैं, इसके बाबत विस्तृत जानकारी दी गई।

जोन कमिश्नर हेमंत शर्मा ने बच्चों को बताया कि डेंगू साफ पानी में पनपता है, इसलिए जहां भी साफ पानी ठहरता हो जैसे कूलर, घर में रखा टायर या पक्षियों के पानी पीने का सकोरा, अगर कहीं भी इन जगहों पर साफ पानी ठहर रहा है तो उसे तुरंत हटा दिया जाए। कूलर का पानी निकाल दिया जाए। यह सबसे बेहतरीन तरीका है डेंगू से बचाव का। दूसरा तरीका है कि सभी पूरी बाजू के कपड़े पहनें, ताकि डेंगू के मच्छर काट न सके।

अगर शरीर का कुछ भाग खुला हुआ है तो वहां पर नारियल तेल की मालिश करें। रात में मच्छरदानी का उपयोग करना सबसे लाभकारी है। डेंगू का मच्छर दिन में काटता है, इसलिए दिन में विशेष ध्यान दिया जाए और यदि डेंगू हो गया हो तो तुरंत चिकित्सक की सलाह लें। पॉजीटिव इंडिया के पुरषोत्तम मिश्रा ने बच्चों को डेंगू के लक्षणों के बारे में बताया।

-डेंगू के लक्षण हैं

सिर में तेज दर्द होना, बुखार आना, मांसपेशियों में खिंचाव तथा दर्द, आंखों के पीछे दर्द। मितली आना तथा उल्टी होना। बचाव ही डेंगू का सबसे बेहतरीन इलाज है स्मार्ट सिटी की तरफ से आयोजित इस डेंगू बचाओ अभियान में रायपुर स्मार्ट सिटी के अधिकारी सम्मिलित हुए।

निगम कमिश्नर रजत बंसल ने बताया कि इस तरह के अभियान शहर में लगातार चलाए जाएंगे, ताकि लोगों को जागरूक किया जा सके और डेंगू को रायपुर शहर से भगाया जा सके। स्कूल की प्रिंसिपल इरावती भूषण परगनिया ने रायपुर स्मार्ट सिटी के डेंगू से कैसे बचा जाए की इस पहल का स्वागत करते हुए कहा कि डेंगू की जागरूकता ही डेंगू से सबसे बड़ा बचाव है।

Back to top button