अब आॅटो, टैक्सी और रिक्सा के लिए नहीं लेना होगा कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस

नई दिल्ली: आॅटो,टैक्सी ​और रिक्सा चलाने वालों के लिए खुशखबर है, अब उन्हें कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस की जरूरत नहीं पड़ेगी। दरअसल केंद्रीय परिवहन मंत्रालय ने आॅटो, टैक्सी और ई रिक्सा चलाने के लिए कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस की अनिवार्यता और बाध्यता को खत्म कर दिया है। इसके अलावा अब निजी वाहन मालिक भी निजी लाइट व्हीकल लाइसेंस होने पर भी वे अपने वाहन का उपयोग क​मर्शियल वाहन चला सकेंगे।

इसके आलावा टक बस और अन्य भारी वाहनों के चालन के लिए नियमों में कोई संशोधन नहीं किया गया है। उन्हे वाहन चालन के लिए कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस की आवश्यकता होगी। इस नियम के संशोधन के बाद यह आशंका जताई जा रही है कि कमर्शियल डाइविंग लायसेंस बनवाने के लिए चल रहे व्यापक भ्रष्टाचार भी समाप्त हो जाएगा।

मंत्रालय ने ने एडवाइजरी जारी में वाहनों के वजन के अनुसार लाइसेंस की अनिवार्यता लागू की है। जिन वाहनों का वजन 7,500 किलो या कम वजने वाले वाहन मालिकों को कमर्शियल ड्राइविंग लाइसेंस की लेना जरूरी नहीं है। गौरतलब है कि 2007 में सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था। जिसके बाद इसे परिवहन मंत्रालय ने लागू किया है।

Back to top button