छत्तीसगढ़ में शराबियों की गणना को लेकर पूर्व मंत्री अजय ने कसा तंज

रायपुर. बीते विधानसभा चुनाव में शराबंदी प्रमुख मुद्दा के रूप में सामने था, कांग्रेस ने अपने घोषणा-पत्र में छत्तीसगढ़ में शराबबंदी करने का जनता से वादा किया था।लेकिन, अभी तक स्पष्ट स्थिति नहीं बन पाई है कि प्रदेश में शराबबंदी कब होगी? हालांकि इसे लेकर सियासी जंग जरूर देखने को मिल रहा है। छत्तीसगढ़ के लोगों को बहुत उम्मीद था कि गांधी जयंती 2 अक्टूबर को सरकार शराबबंदी का निर्णय लेगी, लेकिन यह समय भी टल गया। अब शराबबंदी के लिए गठित कमेटी अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा के शराबियों के आंकड़ें जुटाने की बात को लेकर पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने सरकार पर तंज कसा है।

प्रदेश सरकार अब छत्तीसगढ़ के शराबियों की गणना करने वाली है। शराबबंदी के लिए गठित कमेटी के अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा का ने सोमवार को कहा था कि शराबबंदी के बाद शराबियों की स्थिति जल बिन मछली जैसी हो जाएगी। इसलिए उनके आंकड़े जुटाना जरूरी है। इस कारण शराब दुकानों से शराबियों की संख्या मंगाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि इसमें किसी की निजता का हनन नहीं होगा और न ही किसी की पहचान उजागर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी और जोगी कांग्रेस के विधायकों के नाम दिए जाने थे। अब तक दोनों दलों ने अपने विधायकों के नाम नहीं दिए हैं। दोनों ही दल नहीं चाहते कि राज्य में शराबबंदी हो। बता दें कि कांग्रेस ने प्रदेश में शराबबंदी का वादा किया था। जिसको लेकर बीजेपी अक्सर कांग्रेस पर निशाना साधती रही है।

Back to top button