बिज़नेसराष्ट्रीय

पायलट गौरव तनेजा ने एयर एशिया पर लगाया सुरक्षा नियमों के उल्लंघन का आरोप

निलंबित होने के पीछे के कारण’ शीर्षक से यूट्यूब पर एक पोस्ट डाला

नई दिल्ली: एयर एशिया इंडिया के पायलट गौरव तनेजा ने कंपनी पर कथित तौर पर कम कीमत वाले विमान के जरिए सुरक्षा नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाया है। तनेजा ने रविवार को ट्वीट किया था कि, ‘एयर एशिया ने उसे एक विमान और इसके यात्रियों के सुरक्षित संचालन के पक्ष में खड़े रहने के कारण निलंबित कर दिया है।

इसके बाद सोमवार को उन्होंने एक विस्तृत वीडियो ‘पायलट की नौकरी से मेरे निलंबित होने के पीछे के कारण’ शीर्षक से यूट्यूब पर एक पोस्ट डाला। हालांकि इस संदर्भ में एयर एशिया इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि, ‘एअर एशिया इंडिया पूरी मजबूती से सुरक्षा प्रथम के अपने सिद्धांतों पर कायम है। हमारे हर संचालन में अतिथि की सुरक्षा सर्वोपरि है। हम इस मामले में डीजीसीए के साथ सहयोग कर रहे हैं।’

डीजीसीए ने मामले का संज्ञान लेते हुए पायलट के आरोपों की जांच शुरू दी है। जांच में जो भी तथ्य सामने आयेंगे उसके आधार पर उचित कार्रवाई की जाएगी। नियामक ने कहा है कि डीजीसीए ने एक विमान सेवा कंपनी और सुरक्षा के प्रति उसके रवैये के प्रति हितधारकों द्वारा व्यक्त की गई चिंताओं का संज्ञान लिया है।

तनेजा ने आरोप लगाया कि एयरलाइन ने अपने पायलटों को “फ्लैप 3” मोड में 98 प्रतिशत लैंडिंग करने के लिए कहा है, जो इसे ईंधन बचाने की अनुमति देता है। उन्होंने कहा कि अगर कोई पायलट “फ्लैप 3” मोड में 98 प्रतिशत लैंडिंग नहीं करता है, तो एयरलाइन इसे मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) का उल्लंघन मानती है। फ्लैप एक विमान के पंखों का हिस्सा होते हैं और वे लैंडिंग या टेक ऑफ के दौरान ड्रैग बनाने के लिए लगे होते हैं।

तनेजा ने इम्फाल हवाई अड्डे का उदाहरण दिया, जहां विमान लैंडिंग के लिए संपर्क करते समय अन्य हवाई अड्डों की तुलना में अधिक नीचे उतरता है। उन्होंने कहा कि जब कोई विमान तेजी से नीचे आ रहा होता है, तो उसे खींचने की आवश्यकता होती है ताकि वह धीमा रहे और इन परिस्थितियों में एक पायलट को “फ्लैप फुल” लैंडिंग करनी पड़े। अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, लोग क्या करेंगे? वे फ्लैप 3 लैंडिंग करेंगे यह ध्यान दिए बिना कि यह सुरक्षित है या असुरक्षित है।

Tags
Back to top button