राष्ट्रीय

अब संसद भवन परिसर में गूंजेगी नौनिहालों की किलकारी

संसद भवन परिसर में शिशु सदन (क्रेच) का निर्माण किया गया है ताकि वहां काम करने वाली महिला कर्मचारी अपने बच्चे को वहां रखकर चिंता मुक्त वातावरण में काम कर सकें. उम्मीद है कि यह क्रेच संसद सत्र के अगले भाग में काम करने लगेगा.

संसद में आमतौर पर राजनीतिक चर्चाओं और सांसदों के भाषणों की गूंज रहती है, लेकिन अब परिसर में नौनिहालों की किलकारी भी गूंजेगी. संसद भवन परिसर में शिशु सदन (क्रेच) का निर्माण किया गया है ताकि वहां काम करने वाली महिला कर्मचारी अपने बच्चे को वहां रखकर चिंता मुक्त वातावरण में काम कर सकें. उम्मीद है कि यह क्रेच संसद सत्र के अगले भाग में काम करने लगेगा.

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

फीडिंग रूम की व्यवस्था
संसद भवन परिसर में क्रेच का सृजन लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की पहल पर किया गया है. लोकसभा सचिवालय के एक अधिकारी ने बताया कि लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने 5 फरवरी को इस क्रेच का अनौपचारिक तौर पर उद्घाटन किया था. इसके रखरखाव एवं व्यवस्था के लिए एक कल्याण अधिकारी की तैनाती की गई है जिसमें शुरुआत में 16 बच्चों के रखने की व्यवस्था की गई है. यहां पर महिला कर्मचारियों को बच्चों को दूध पिलाने के लिये ‘फीडिंग रूम’ की भी व्यवस्था की गई है.

महिला कर्मचारियों की हर जरूरत का ध्यान
उन्होंने बताया कि क्रेच में पंजीकरण के लिए काफी आवेदन आ रहे हैं और इन्हें वरीयता एवं जरूरत के आधार पर तय किया जा रहा है. इसमें सबसे अधिक वरियता सिंगल मदर और दूसरी वरियता सिंगल फादर को दी जा रही है. इसके अलावा काफी संख्या में दंपति भी यहां काम करते हैं और उन्हें तवज्जो दी जा रही है. अधिकारी ने बताया कि सत्र के दौरान कुछ कर्मचारियों को काफी समय तक सदन में रहना पड़ता है, क्रेच में इन्हें भी प्राथमिकता दी जा रही है. इसमें यह भी ध्यान रखा जा रहा है कि घर से दूरी कितनी है.

वक्त के साथ होगा इस सेंटर का विस्तार
उन्होंने बताया, ‘हम आगे इसका विस्तार भी करेंगे. यह इस आधार पर तय किया जायेगा कि कितनी उम्र के बच्चे आ रहे हैं. शिशु सदन में लम्बे समय तक बच्चों को रखना है, तो वहां कई तरह की गतिविधियों से जुड़ी सुविधाओं की जरूरत होगी. ऐसे में वहां पाठ्य सामग्री एवं खेल सामग्रियों का भी प्रबंध किया गया है.’ संसद भवन में काम करने वाली महिला कर्मचारियों के लिये शिशु सदन का निर्माण संसद सौंध विस्तार की नयी इमारत में किया गया है. क्रेच का निर्माण करीब 1500 वर्ग फुट क्षेत्र में किया गया है.

क्यों किया गया इसका निर्माण
उल्लेखनीय है कि संसद में कुछ समय पहले मातृत्व लाभ संशोधन विधेयक 2016 पारित किया गया था, जिसमें कुछ श्रेणी की संस्थाओं में कार्यरत महिलाओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए क्रेच का निर्माण किया गया है.

Summary
Review Date
Reviewed Item
अब संसद भवन परिसर में गूंजेगी नौनिहालों की किलकारी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *