अब कोटवार संघ अपनी मांगों को लेकर उतरेंगे सड़क पर

विधानसभा घेराव की बन रही है रणनीति

अब कोटवार संघ अपनी मांगों को लेकर उतरेंगे सड़क पर

रायपुर : छत्तीसगढ़ में जैसे जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आते जा रहा है वैसे वैसे प्रदेश में कर्मचारी संगठन सहित अन्य लोग अपनी मांगों को लेकर सड़क की लड़ाई करना शुरू कर दिए हैं. शिक्षाकर्मियों के आंदोलन और उनकी मांगों के पूरा होने के बाद अब प्रदेश के हजारों कोटवार अपनी मांगों को लेकर सड़क पर उतरने की तैयारी कर रहे हैं.

इसी कड़ी में कोटवार संघ ने 1 जुलाई को राजधानी में महाधरना देने और उसके बाद 2 जुलाई को विधानसभा घेराव करने का एलान किया है. कोटवार संघ ने पदाधिकारियों ने बताया कि सरकार ने उनके मानदेय में बढ़ोत्तरी करने की घोषणा तो कर दी है लेकिन उसको साल 2017 से दिया जाये.

कोटवार संघ ने नियमितीकरण करने सहित अन्य मांगों को लेकर ये प्रदर्शन करने की बात कही है. संघ ने लोगों ने बताया की 29 और 30 जून को तहसील स्तर पर सांकेतिक प्रदर्शन करने की बात कही है.

संघ का कहना है कि राज्य सरकार उनको ना ही सरकारी कर्मचारी मानती है और ना ही उन्हें अन्य लोगों के जैसे सुविधा देने की बात करती है. संघ का आरोप है की जो जमीन उन्हें जीवन यापन करने दी गई थी उसमे भी सुप्रीम कोर्ट ने जमीनों को कोटवारों को लौटाने का आदेश दिया है बावजूद इसके सरकार उस निर्णय की अवमानना कर रही है.

Back to top button