छत्तीसगढ़

अब बरसात में उफनती शबरी नदी नहीं रोकेगी रास्ता : मंत्री लखमा

मंत्री लखमा ने 11 करोड़ रूपए की लागत से बने पुल का शुभारम्भ किया

रायपुर, 9 फरवरी 2021 : प्रदेश के उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने आज सुकमा जिले के प्रवास के दौरान शबरी नदी के गंजेनार-कोडरीपाल घाट पर 10 करोड़ 95 लाख 45 हजार रूपए की लागत से निर्मित पुल का शुभारम्भ किया। सुकमा जिला के छिंदगढ़ विकासखंड अन्तर्गत ग्राम पंचायत गंजेनार में शबरी नदी पर निर्मित इस उच्च स्तरीय पुल के शुभारम्भ के अवसर पर मंत्री कवासी लखमा ने ग्रामीणों को बधाई और शुभकामनाएं दी।

मंत्री लखमा ने कहा 

मंत्री लखमा ने इस अवसर पर कहा कि बरसात के दिनों में उफनती शबरी नदी अब ग्रामीणों का रास्ता नहीं रोकेगी। इस पुल के बन जाने से छिंदगढ़ विकासखंड के ग्रामीणों को आवागमन में सहूलियत होगी। सुकमा जिले की जीवनदायनी शबरी नदी बरसात के मौसम पर उफान पर रहती है, जिससे आस पास के क्षेत्रवासियों को आवाजाही में काफी कठिनाई होती थी। पूर्व में गंजेनार वासियों को शबरी नदी के दूसरे छोर पर बसे ग्राम कोडरीपाल, बुड़दी, कवासीरास जाने के लिए जिला मुख्यालय सुकमा होते हुए 45 किलोमीटर से अधिक का फासला तय करना पड़ता था।

अब यह फासला महज 5 किलोमीटर के दूरी तक सिमट गया है। पुल के निर्माण से लगभग 5 से 6 पंचायत गंजेनार से जुड़ गए है। मुख्यतः कोडरीपाल, कावसीरास, बोरगुड़ा, गुम्मा, तालनार, एवं बुड़दी तक ग्रामीणों की आवाजाही सुगमता से होगी। अब बरसात के मौसम में भी ग्रामीण बड़ी आसानी से आवागमन कर सकेंगे।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ सरकार ग्रामीण जनता के विकास और प्रगति के लिए पूरी प्रतिबद्धता से कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि सुकमा जैसे पिछड़े क्षेत्र में अब तेजी से विकास हो रहा है। जिलेवासियों के सुगम आवाजाही के लिए शबरी नदी पर पांच पुलों का निर्माण किया जा चुका है। वहीं आने वाले दिनों में मोटू, गादीरास, पेदारास, पेरमारास में भी पुल का निर्माण होगा। ग्रामीण विकास के लिए उन्होंने सड़कों, पुलों, स्कूल, धान खरीदी केन्द्रों, आंगनबाड़ी आदि अधोसंरचना को महत्वपूर्ण बताया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश कवासी एवं अन्य जनप्रतिनिधिगण, कलेक्टर विनीत नन्दनवार, एसपी  के.एल. धु्रव सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button