अब केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह का दावा -हनुमान जी थे आर्य , वेदों में है सबूत

भगवान राम और हनुमान जी के युग में, इस देश में कोई जाति व्यवस्था नहीं थी

बागपत। इन दिनों भगवान हनुमान की जाति और पहचान बताने को लेकर राजनेताओं में होड़ सी लगी है।

अब इस कतार में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष नंद कुमार साय के बाद अब केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह भी शामिल हो गए हैं। बागपत से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद सत्यपाल सिंह ने भगवान हनुमान की पहचान को लेकर नई बात कही है।

मानव संसाधन राज्य मंत्री सत्यपाल सिंह ने कहा, ‘भगवान राम और हनुमान जी के युग में, इस देश में कोई जाति व्यवस्था नहीं थी।

कोई दलित, वंचित और शोषित नहीं था। वाल्मीकि रामायण और रामचरित मानस को आप अगर पढ़ेंगे तो आपको मालूम चलेगा कि उस समय जाति व्यवस्था नहीं थी। हनुमान जी आर्य थे। इस बात को मैंने स्पष्ट किया है, उस समय आर्य थे और हनुमान जी उस आर्य जाति के महापुरुष थे।’

Back to top button