राष्ट्रीय

एनआरसी: असम में दंगा भड़काने आई थी टीएमसी टीम: सोनोवाल

- सीएम ने ममता पर लगाया बड़ा आरोप

नई दिल्ली

असम में एनआरसी ड्राफ्ट आने के बाद असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने पहली बार पश्विम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा है। उन्होंने ममता के खिलाफ बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्होंने तृणमूल कांग्रेस की टीम को असम में एनआरसी प्रक्रिया को अस्थिर करने के लिए भेजा था।

इतना ही टीम के जरिए बराक घाटी में दंगा फैलाने की भी योजना थी। हमारी सरकार ने उनकी योजना को समय रहते भांप लिया था, जिसके चलते एनआरसी ड्राफ्ट जारी होने के बाद भी टीएमसी सांसद अपने मंसूबों को अंजाम नहीं दे पाए।

-षडयंत्र में नहीं फंसे बराक घाटी के लोग

सीएम सर्बानंद सोनोवाल की ओर से जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा कि उन्होंने बराक घाटी के लोगों को इसके लिए धन्यवाद दिया कि उन्होंने एक अनुकरणीय धैर्य प्रदर्शित किया और बाहरी ताकतों के विभाजनकारी षड्यंत्र में नहीं फंसे।

सीएम ने असम में राष्ट्रीय नागरिक पंजी के नाम पर शांतिपूर्ण माहौल खराब करने की बाहरी ताकतों के कथित प्रयास की निंदा की है। सोनोवाल ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की भड़काऊ टिप्पणी और समाज का ध्रुवीकरण करने की खतरनाक साजिश के तहत बराक घाटी में एक प्रतिनिधिमंडल भेजने के उनके निर्णय के मद्देनजर असम के लोगों, विशेष तौर पर बराक घाटी लोगों के संयम और धैर्य की प्रशंसा की।

-कुछ लोगों की मंशा ठीक नहीं थी

उन्होंने कहा कि एनआरसी के फाइनल ड्राफ्ट को लेकर कुछ निहित हित वाले लोग बराक और ब्रह्मपुत्र घाटी, पर्वतीय और मैदान के लोगों के बीच सदियों पुरानी एकता को तोड़ने की कोशिश में लगे थे। लेकिन ऐसे षडयंत्रकारी लोगों की भड़काऊ बयानों के बावजूद लोगों ने शांति बनाए रखी और इस प्रक्रिया पर अमल करने में सहयोग किया। इस तरह से असम के लोगों ने षडयंत्रकारियों को करारा जवाब दिया है।

ऐसे राजनीतिक दलों के नेताओं को समझ लेना चाहिए असम के लोग अपना हित जानते हैं। उन्हें बखूबी पता है कि असमियां लोगों हित किसमें है। उन्होंने असम के बांग्ला भाषी लोगों और असम के विभिन्न संगठनों को भी धन्यवाद दिया कि उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री की राज्य में ध्रुवीकरण करने की योजना के खिलाफ स्पष्ट रूप से अपना विरोध दर्ज कराया।

-लोगों का ममता को करारा जवाब

असम पुलिस ने बताया कि असम में एनआरसी का विरोध करने वाली बनर्जी के पुतले फूंके गए और दिन में पूरे असम में उनके खिलाफ प्रदर्शन हुए। पुलिस उपायुक्त रंजन भुइयां ने कहा कि गुवाहाटी और सिलचर में कथित तौर पर धर्म के आधार पर गड़बड़ी पैदा करने के लिए दो प्राथमिकियां दर्ज की गईं।

पांच थानों में पांच संगठनों ने ममता बनर्जी के खिलाफ पांच मामले दर्ज कराए हैं। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि बनर्जी और तृणमूल की आठ सदस्यीय टीम के खिलाफ आईपीसी की धारा 120बी के तहत आपराधिक षड्यंत्र रचने, धर्म, जाति, जन्म स्थान, आवास, भाषा के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता बढ़ाने, धारा 298 के तहत किसी व्यक्ति की धार्मिक भावना को आहत करने के इरादे से शब्दों का प्रयोग की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
एनआरसी: असम में दंगा भड़काने आई थी टीएमसी टीम: सोनोवाल
Author Rating
51star1star1star1star1star

Tags