राष्ट्रीय

शुरुआत से अब तक 95 फीसदी घटी बाघों की संख्या,अस्तित्व पर मंडराता खतरा

2016 तक दुनिया में सिर्फ 3890 बाघ बचे थे

>नई दिल्ली। दुनिया का सबसे खतरनाक जीव जिसकी गर्राहट से इंसान क्या जानवर भी डर जाएं। आज वहीं जीव अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है। 2016 तक दुनिया में सिर्फ 3890 बाघ बचे थे।

20वीं सदी की शुरुआत से लेकर अब तक हम 95 फीसद बाघों को खो चुके हैं। अवैध शिकार और गैरकानूनी कारोबार: पिछले एक हजार वर्षों से बाघों का उनके अंगों के लिए शिकार किया जा रहा है।

इन अंगों का प्रयोग समाज में रुतबा दिखाने, सजावट के लिए और दवाओं के लिए किया जाता है। इसलिए साल 2010 में बाघों के संरक्षण की मुहिम को तेज करने के लिए सेंट पीटर्सबर्ग में आयोजित बाघ सम्मेलन से अंतराष्ट्रीय बाघ दिवस की शुरुआत की गई।

Tags
Back to top button