राज्य

नितिन गडकरी के कार्यक्रम में पत्रकारों को 500-500 रुपए देने का आरोप

ओडिसा में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के एक कार्यक्रम को कवर करने के लिए कथित तौर मीडियाकर्मियों को 500-500 रुपए देने का मामला सामने आया है। खबर के अनुसार कार्यक्रम का आयोजन नेशनल हाईवे अथोरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) द्वारा किया गया था। आयोजन स्थल पर मौजूद पत्रकार उस दौरान हैरान रह गए जब वहां मौजूद हर पत्रकार को पांच सौ रुपए का नोट दिया गया।

हालांकि ओडिशा पुलिस और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) ने अंगुल में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के कार्यक्रम में मीडियाकर्मियों को कथित रूप से रिश्वत देने के प्रयास की जांच शुरू कर दी है। दरअसल मीडियाकर्मी अंगुल के दशहरा ग्राउंड में एक कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और धर्मेद्र प्रधान के पहुंचने का इंतजार कर रहे थे। इस दौरान कथित रूप से मीडियाकर्मियों को प्रत्येक मीडिया किट में 500 रुपए का नोट दिया गया। पत्रकारों ने यह भी बताया कि एनएचएआइ के अधिकारियों द्वारा ये मीडिया किट बांटी गईं थीं। हालांकि मीडियाकर्मियों ने इसका कड़ा विरोध किया। वहीं एक पत्रकार ने अंगुल थाने में शिकायत दर्ज भी कराई है।

अंगुल के एसपी ब्रिजेश के राई ने बताया कि पुलिस को शिकायत मिली है और हम इसकी जांच कर रहे हैं।

दूसरी तरफ एक पत्रकार ने मीडिया को बताया, ‘ऐसा पहली बार नहीं है जब ऐसे किसी कार्यक्रम में पत्रकारों को रिश्वत दी गई हो। कई बार भारत सरकार द्वारा आयोजित इवेंट को भी राज्य में भाजपा ने हाईजैक करने की कोशिश की है। हालांकि हमें खुद नहीं पता कि कार्यक्रमों में कौन इस तरह की हरकत करता है।’ बता दें कि ओडिशा में सड़कों के विकास के लिए एक लाख करोड़ रुपए की स्वीकृति दी गई है जिसे दो साल में बढ़ाकर डेढ़ लाख करोड़ रुपए किया जाएगा। यह बात शुक्रवार (21 जुलाई, 2017) को केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने राउरकेला (ओडिशा) में कही।

वे राउरकेला के बालूघाट में ब्राह्माणी नदी पर सिक्स लेन द्वितीय पुल और फोरलेन बीरिमत्रपुर ब्राह्माणी बाइपास सड़क का शिलान्यास एवं बेलपहाड़ बाइपास के साथ कनकतोरा-झारसुगुड़ा सेक्शन सड़क का लोकार्पण करने के बाद जनसभा को संबोधित कर रहे थे। गडकरी ने कहा कि अब निर्धारित समय से एक दिन पहले काम पूरा करने पर एक लाख रुपए पुरस्कार तथा एक दिन विलंब होने पर डेढ़ लाख रुपये दंड देना पड़ेगा।

Tags
Back to top button