के. आर. टेक्निकल कॉलेज अम्बिकापुर में विधिक जागरूकता कार्यक्रम का किया गया आयोजन

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव न्यायाधीश जनार्दन खरे ने छात्र-छात्राओं का किया मार्गदर्शन.......

अम्बिकापुर: के. आर. टेक्निकल कॉलेज अम्बिकापुर में महाविद्यालय की विधिक साक्षरता क्लब एवं राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव न्यायाधीश जनार्दन खरे ने विभिन्न बिन्दुओ पर छात्र-छात्राओं का मार्गदर्शन किया।

कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों के स्वागत उपरांत प्राचार्य डॉ. रितेश वर्मा ने स्वागत उद्बोधन में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि कानून से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त कर ही हम अपने अधिकारों एवं कर्तव्यों के प्रति सशक्त हो सकते है। यह हमारे लिए हर्ष का विषय है की जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव न्यायाधीश जनार्दन खरे आज हमारे बीच उपस्थित है। आज हम सब के लिए कुछ सीखने का दिन है। उन्होंने कहा कि हम सभी का यह कर्तव्य होना चाहिए कि समाज के अंतिम व्यक्ति शोषित, पीड़ित और निर्धन हो सभी को निःशुल्क विधिक सहायता प्राप्त हो यह प्रयास करें।

मुख्य वक्ता न्यायाधीश जनार्दन खरे ने विधिक साक्षरता की संकल्पना एवं महत्व पर प्रकाश डालते हुए विभिन्न नियमों अधिनियमों के तहत प्राप्त अधिकारों एवं विधिक प्रक्रिया की सारगर्भित जानकारी दी। उन्होंने छात्र-छात्राओं को बड़े रोचक माध्यम से और कहानियों का अनूठा प्रयोग करते हुए विभिन्न प्रकार के कानून के बारे में बताया। उन्होंने ड्राइविंग लाइसेंस, गाड़ी का इंशोरेंस के बारे में छात्र-छात्राओं को कानूनी जानकारियां दी। साथ ही साथ उन्होंने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के बारें में भी छात्रों को विस्तार से बताया। उन्होंने कहा की विधिक सहायता प्राप्त करना सबका पूरा अधिकार है। उन्हें समाज में उपलब्ध संसाधनों का उपभोग करने का पूरा हक है। उन्होंने महिलाओं को विधिक सहायता प्राप्त करने के लिए ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को विधिक साक्षरता से जोड़ने हेतु प्रेरित किया।

उन्होंने कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्गदर्शन में न्यायपालिका सीधे गांव तक पहुंच रही है, जो कानून के प्रति जागरूकता एवं अपने अधिकारों को जानने का एक सशक्त माध्यम है। महिलाओं में जागरूकता बढ़ी है कानून के प्रति उनका विश्वास बढ़ा है, यह भविष्य के लिए अच्छा संकेत है।

कला एवं समाज कार्य विभाग के विभागाध्यक्ष एवं लिगल लिट्रेसी क्लब के प्रभारी विनितेश गुप्त ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि विधिक साक्षरता हेतु दस्तावेजों विचारों निर्णयों आदि को पढ़ना बहुत जरूरी है। कार्यक्रम का सफल संचालन भी राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी विनितेश गुप्त ने किया। इस अवसर पर सभी विभागों के विभागाध्यक्ष एवं सहायक प्राध्यापक सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button