अधिकारी ही उड़ा रहे आदर्श आचार संहिता की धज्जियां

अंकित राजपूत

बिलासपुर। प्रदेश में आदर्श आचार संहिता लगने के बाद शासन द्वारा चलाए जा रहे योजनाओ का क्रियान्वन पूरी तरह रोक दिया गया है |

इसके बावजूद पथरिया क्षेत्र में शासन की महत्वपूर्ण योजनाओ में से एक उज्ज्वला योजना के तहत अभी तक गैस कनेक्शन वितरित किया जा रहा है |इस बात से अधिकारी के अवगत होते हुए कार्यवाही करने के बावजूद मामले को निपटाने में लगे हुए है |

30 नग सिलेंडर और चूल्हा सेटों का वितरण

मिली जानकारी के अनुसार घटना नगर पंचायत पथरिया की है, जहां से 30 नग सिलेंडर और चूल्हा सेट वितरण के लिए एक ऑटो में लोड होकर विकासखंड के ग्राम पंचायत अमोरा में वितरण के लिए जा रहा था।

लेकिन पथरिया से निकलने से पहले ही कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ताओ ने उसे रुकवा कर थाने ले जाने की बात कही और नायब तहसीलदार महेश्वर उइके को मामले की जानकारी दी।

ऑटो थाने जाने के बजाय वापस इंडेन गैस एजेंसी आ गया। जहां कुछ ही देर में नायब तहसील दार महेश्वर उइके भी मौके पर पहुंच गए।

उन्होंने भी गैस और चूल्हे सेट से भरे वाहन को थाने ले जाने के बजाय वहीं कार्यवाही करने के नाम पर समय व्यतीत करते रहे। नियमानुसार वाहन को थाने ले जाकर एजेंसी संचालक से पूंछताछ करनी थी।

युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता कार्यवाही करने की मांग

वहीं नगर के कांग्रेसी नेता ग्वालदास अनंत एवं युवक कांग्रेस के कार्यकर्ता कार्यवाही करने की मांग करते हुए नारेबाजी करते रहे।

लगभग 2 घंटे बाद नायब तहसीलदार और एजेंसी संचालक एजेंसी के ऑफिस में बैठकर यह तय कर लिए कि सिलेंडर और चुल्हा भरा वाहन रिफिलिंग के लिए जा रहा था। इस पर कांग्रेस नेता ग्वालदास अनंत ने प्रशासन पर आरोप लगते हुए कहा कि उक्त वाहन में लोड सिलेंडर उज्ज्वला योजना के तहत वितरित होने जा रहा था।

ज़िम्मेदार अधिकारी चाहते तो आचार संहिता तो नहीं होती मर्यादा भंग

अगर प्रशासन के ज़िम्मेदार अधिकारी चाहते तो आदर्श आचार संहिता की मर्यादा भंग नहीं होने देते |इससे साफ प्रतीत होता है कि शासन और प्रशासन का साठ गाठ जोरो पर है |

माफ़ी मांगते रहे एजेंसी संचालक – जैसे ही सिलेंडर से भरा वाहन पकडाया और अपने एजेंसी वापस आया तो वहा लोगो की भीड़ लगनी शुरू हो गई | मौजूद अधिकरियो और नागरिको के सामने एजेंसी संचालक इस मामले को अपनी पहली गलती बताते हुए माफ़ करने की गुहार लगाते रहे।

बैनर पोस्टर या कागज नहीं

कांग्रेसियों ने नायब तहसीलदार की भूमिका संदिग्ध बताई – मौके पर उपस्थित कांग्रेसियों ने जब नायब तहसीलदार से कार्यवाही ना होने का कारण पुछा तो उन्होंने कहा कि वाहन में उज्ज्वला योजना से सम्बंधित कोई की बैनर पोस्टर या कागज नहीं मिले है |

इसे सुनते ही कांग्रेसियों ने नायब तहसीलदार की भूमिका को संदिग्ध बताते हुए उन पर किसी के दवाब के कारण कार्यवाही नहीं करने का आरोप लगाया | वही नायब तहसीलदार ने बताया की एजेंसी संचालक ने उक्त सिलेंडर के रिफिलिंग सम्बंधित दस्तावेज पेस किये है |

साथ ही आचार संहिता के समय भी उज्ज्वला योजना के तहत हितग्राहियों को नये कनेक्सन वितरित किया जा सकता है बशर्ते उसमे किसी राजनितिक पार्टी या व्यक्ति की तश्वीर अंकित ना हो।

Back to top button