ईरान पहली तिमाही में सरकारी तेल कंपनियों को आपूर्ति करने वाला दूसरा बड़ा निर्यातक

नई दिल्ली : ईरान चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारत की सरकारी तेल कंपनियों को कच्चे तेल का निर्यात करने वाला दूसरा बड़ा आपूर्तिकर्ता रहा है। तेल आपूर्ति के मामले में उसने सऊदी अरब को पीछे छोड़ दिया। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने सोमवार को यह कहा।

पिछले वित्त वर्ष में भारतीय सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों ने ईरान से आयात होने वाले कच्चे तेल में कटौती की थी। इस साल पहली तिमाही अप्रैल-जून में इन तेल कंपनियों ने ईरान से 56. 70 लाख टन कच्चे तेल का आयात किया। यह मात्रा सऊदी अरब से अधिक रही। इराक के बाद सरकारी तेल कंपनियों ने सबसे ज्यादा कच्चा तेल ईरान से खरीदा।

प्रधान ने लोकसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी देते हुए कहा कि 2017-18 के पूरे साल के दौरान तेल विपणन कंपनियों ने कुल 98 लाख टन कच्चे तेल की खरीदारी की जबकि इससे पिछले साल में इन कंपनियों ने कुल एक करोड़ 30 लाख टन कच्चा तेल आयात किया।

चालू वित्त वर्ष के शुरुआती तीन माह के दौरान सरकारी तेल कंपनियों ने 56.70 लाख टन कच्चा तेल आयात किया। इसका मूल्य 19,978.46 करोड़ रुपये रहा। ईरान से कच्चे तेल का आयात करने वाली सरकारी क्षेत्र की कंपनियों में मंगलूर रिफाइनरी ऐंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड, इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड शामिल हैं।

Back to top button