छत्तीसगढ़

omg: इस महिला के शरीर के अंदर मिले 8 माइयेसिस परजीवी लार्वा, डॉक्टर भी चकराए

जांच रिपोर्ट में एक इंटेस्टाइनल माइयेसिस का प्रकरण होना बताया

-भरत सिंह-

बिलासपुर। सिम्स में एक महिला के शरीर में परजीवी लार्वा मिलने का मामला सामने आया है , महिला केा पेट दर्द, दस्त , बेचैनी , मिलती और भूख न लगने की शिकायत थी , सिम्स के डाॅक्टरों ने जांच कर लार्वा की पहचान। बता दें कि परजीवी मानव के शरीर में जीवित प्रवेश कर आंत से भोजन ग्रहण करते है, कीट एंव मक्खियाँ खुले , घाव , मूत्र व मल की ओर आकर्षित होती हैं ,इसमें महत्वपूर्ण फ्लाई,ब्लो फ्लाई,स्कू फ्लाई और ओस्ट्र प्रजातियां होती हैं।

सिम्स में ऐसे ही एक मामले में पेड्रा क्षेत्र के 28 साल की महिला को दिसम्बर 2017 में ईलाज के लिए लाया गया था , 15 दिन बाद पेट दर्द, बेचैनी , भूख न लगने की शिकायत होती रही. मेडिसीन विभाग के डाॅ. लखन सिंह ने लक्षण के आधार पर इलाज कर 7 दिन बाद महिला को फिर बुलाया लेकिन तकलीफ कम नहीं होने के कारण महिला 5 दिनों के अन्दर सिम्स वापस आ गई. महिला ने मल में रक्त व कुछ कीड़े मिलने की शिकायत के बाद डॉक्टर ने मरीज को माइक्रोबायोलाॅजी विभाग में मल की जांच कराने के लिए कहा, 3 दिन बाद मल की जांच करने पर 13 से 15 मी. साइज़ के 8 लार्वा नजर आए. माइक्रोबायोलाॅजी विभागाध्यक्ष डाॅ.रमणेश मूर्ति सैपल की जांच के लिए कोयम्बटूर युनिवर्सिटी भेजा।

अप्रैल में आई जांच रिपांर्ट में एक इंटेस्टाइनल माइयेसिस का प्रकरण होना बताया गया ,माइयेसिस के मरीज में लक्षण के अनुसार इलाज में घाव की डेसिंग 15 प्रतिशत क्लोरोफार्म वेजिटेबल तेल में डालकर व लेक्सेटिव आपरेशन द्वारा इलाज कराए जाने के बाद महिला को माइयेसिस लार्वा से छुटकारा मिल पाया। फ़िलहाल महिला स्वस्थ है।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.