साइबर अपराध होने पर बिलासपुर पुलिस ने तत्काल कार्यवाही करके एक लाख रिफंड कराया

पूर्व मे भी बिलासपुर पुलिस ने "साइबर मितान कार्यक्रम" तहत व्यापक अभियान चलाकर जनता तक प्रचार प्रसार करने का प्रयास किया था. Google के customer care number मे कभी मोबाइल नंबर नहीं होते यदि हैं तो वे फ़्रॉड नंबर होते हैं

ब्यूरो चीफ विपुल विपुल
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक झा ने सभी थाना प्रभारिओ को अपने क्षेत्र के साइबर अपराध से पीड़ित प्रकरण सामने आने पर गंभीरता से कार्य करने निर्देश दिया था.अति पुलिस अधीक्षक उमेश कसयप व निमेष बरैया ने भी हिदायत दिया था. इसी के परिपालन मे तोरवा थाना मे Crime no 285/21 धारा 420 के तहत 15.7.21 की शाम को तोरवा के गुरुंनानक चौक पास के रेलवे रिटायर्ड निवासी पी. के. राय पिता अजित कुमार ने दो मोबाइल नंबर 6297087645, 7549981407 के धारक अज्ञात आरोपी के विरुद्ध धोखाधड़ी का अपराध कायम कराया था ….

पीड़ित ने google मे jeo customer care का फ़ोन नंबर खोज कर उसमे से 6297087645 नंबर मिला, उसमे पीड़ित ने फ़ोन किया, net slow चलने संबंधी complain किया, पता, पिन कोड पूछा गया,तभी एक अज्ञात व्यक्ति ने पीड़ित को फ़ोन किया,अपने आपको जिओ का कर्मचारी बताया, प्रॉब्लम पूछा, नेट प्रॉब्लम बताने पर उसने 5/- का ऑनलाइन फॉर्म भराया. Anydesk download करके open करने बोला, ओपन करते ही विश्वास मे लेकर 325000 निकाल कर धोखाधड़ी कर लिया था.

साइबर मितान कार्यक्रम

तत्काल जानकारी मिलते ही तोरवा पुलिस एक्शन मे आई, तथा ततपरता व गंभीरता से कर्तव्य निर्वहन करते हुए साइबर सेल से सम्पर्क किया. तत्काल online complain किया गया. पीड़ित की घबराहट को शांत कराया. Online कम्प्लेन का msg पीड़ित के मोबाइल मे आया, समय पर कार्यवाही होने से आज तक पीड़ित का 100,000 (एक लाख) रुपय वापस आ चूका हैं.प्रयास किया जा रहा हैं कि पीड़ित का पूरा पैसा refund आ सके. साथ ही साइबर सेल से coordinate करके आरोपी तक भी पहुंचने का प्रयास तोरवा पुलिस कर रही हैं.

पूर्व मे भी बिलासपुर पुलिस ने “साइबर मितान कार्यक्रम” तहत व्यापक अभियान चलाकर जनता तक प्रचार प्रसार करने का प्रयास किया था. Google के customer care number मे कभी मोबाइल नंबर नहीं होते यदि हैं तो वे फ़्रॉड नंबर होते हैं

फ़्रॉड होने पर अतिशीघ्र पुलिस तक पहुंचने का प्रयास करें….

कार्यवाही मे थाना प्रभारी निरीक्षक परिवेश तिवारी के साथ साइबर सेल के मनोज नायक उपनिरीक्षक, आरक्षक दीपक यादव, मुकेश वर्मा का योगदान रहा…

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button