गुरु पूर्णिमा के दिन तीन बड़े संतों का वृंदावन में हुआ संगम

गुरु पूर्णिमा के विशेष दिन पर ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती एवं उनके शिष्य प्रतिनिधि द्वारका पीठ के मंत्री दंडी स्वामी सदानंद जी सरस्वती तथा श्रीविद्या मठ काशी के स्वामिश्री: अविमुक्तेश्वरानंद: सरस्वती वृंदावन के उड़िया बाबा आश्रम में चातुर्मास्य व्रत अनुष्ठान हेतु पधारे जिसे देखकर हम अनायास ही यह कह सकते हैं के देश के तीन बड़े संतों का संगम भगवान कृष्ण की धरती वृंदावन में हुआ ।

पूज्य शंकराचार्य जी महाराज, दंडी स्वामी सदानंद जी सरस्वती एवं दंडी स्वामिश्री: अविमुक्तेश्वरानंद: सरस्वती जी महाराज ने सभी भक्तों से मिले और उन्हें आशीर्वाद प्रदान किये। इस विशेष मौके पर शंकराचार्य महाराज जी के दोनों शिष्य प्रतिनिधि ने अपने गुरु को माल्यार्पण कर उनके चरण स्पर्श कर आशीर्वाद प्राप्त किया।

गुरु पूर्णिमा के दिन सुबह से ही हजारों की संख्या में भक्तों का तांता लगा हुआ था जिन्होंने अपने गुरु का पूजन, आरती कर आशीर्वाद प्राप्त किया। यह सिलसिला रात के 11 बजे तक चलता रहा। पूज्य शंकराचार्य जी महाराज व उनके शिष्य प्रतिनिधि दंडी स्वामी सदानंद जी सरस्वती व दंडी स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने लगातार दूर दूर से आये अपने शिष्य, भक्त एवं श्रद्धालुओं से मिलते रहे और प्रत्येक को आशीर्वाद प्रदान कर धर्म और सच्चाई के मार्ग पर चलने हेतु आग्रह किये।

Back to top button