एसईसीएल की मेगा परियोजनाओं के विस्तार पर राज्य शासन के उच्च अधिकारियों से वार्ता सम्पन्न

एसईसीएल मुख्यालय बिलासपुर स्थित बिलासपुर भवन में आज राज्य शासन के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ उच्चस्तरीय बैठक सम्पन्न हुई जिसमें कम्पनी की मेगापरियोजनाओं के विकास तथा त्वरित विस्तार संबंधी मुद्दों पर सार्थक चर्चा हुई।

इसमेंसीएमडी एसईसीएलश्री ए.पी. पण्डा की गरिमामयी उपस्थिति रही।बैठक का अध्यक्षीय नेतृत्व कमिश्नर बिलासपुर संभाग डॉ. संजय अलंगने की।बैठक में आईजी बिलासपुर रेंज श्री रतन लाल डांगी, मुख्य वनसंरक्षक बिलासपुर रेंज श्री नावेद शुजाऊद्दीन, कलेक्टर जिला कोरबा श्रीमती रानू साहू, पुलिस अधीक्षक कोरबा श्री भोजरामपटेल, एसईसीएल के निदेशकतकनीकी (संचालन) श्री एम.के. प्रसाद, निदेशक (वित्त सह कार्मिक) श्री एस.एम. चौधरी, निदेशक तकनीकी (योजना/परियोजना) श्री एस.के. पाल,उपायुक्त बिलासपुर श्रीमती अर्चना मिश्रा, वनमंडलाधिकारी वनमंडल कोरबा/कटघोरा, एसईसीएल कुसमुण्डा क्षेत्रीय महाप्रबंधक श्री आर.पी. सिंह, एसईसीएल गेवरा महाप्रबंधक श्री एस.के. मोहंती, एसईसीएल दीपका महाप्रबंधक श्री आर.पी. शाह, मुख्यालय से विभिन्न विभागाध्यक्षों की भी उपस्थिति रही।

बैठक के आरंभ में सीएमडी एसईसीएल श्री ए.पी. पण्डा ने उपस्थितों का स्वागत करते हुए कहा कि एसईसीएल परिवार के लिए यह गौरव का विषय है कि राज्य शासन के उच्चाधिकारी हमारे बीच उपस्थितहैं।कम्पनी राष्ट्र की ऊर्जा आपूर्ति की दिशा में निरंतर प्रयासरत है। वित्तीय वर्ष 2021-22 की छमाही में एसईसीएल ने पावर सेक्टर को गतवर्ष की तुलना में लगभग 25 प्रतिशत अधिक कोयला उपलब्ध कराया है जिससे कि औद्योगिकमांग तथा विद्युत आपूर्ति निर्बाध रूप से सुनिश्चित की जासके।उन्होंने राज्य शासन द्वारा उनके सतत सहयोग के लिए आभार प्रकट किया।

बैठक में एसईसीएल की मेगापरियोजना ओंदीपका, गेवरा तथा कुसमुण्डा के विस्तार सेजु ड़े विभिन्न पहलुओं तथा मुद्दों पर चर्चा हुई जिसमें शासन की टीम द्वारा हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया गया।ज्ञात हो कि कोलइण्डियालिमिटेड के 1 बिलियन टन कोयला उत्पादन के लक्ष्य की दिशा में इन तीनों बड़ी परियोजनाओं का महत्वपूर्ण अंशदान रहेगा।

विदितहोकिइससंबंध मेंमाननीय मुख्य सचिवमहोदय, छत्तीसगढ़ शासन द्वारागत 23 सितंबरकोसमीक्षाबैठकलीगयीथीतथाआज के बैठकमेंविभिन्नबिन्दुओंपरप्रगति की भीसमीक्षा की गयी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button