आयात शुल्क पर ट्रंप ने भारत पर साधा निशाना, कहा-हम कर रहे हैं ‘स्टूपिड ट्रेड’

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने भारत पर अमेरिकी सामानों पर भारी-भरकम शुल्क लगाने का आरोप लगाते हुए अपने अधिकारियों को जवाबी कार्रवाई करने के लिए कहा है। भारत को ‘सर्वाधिक शुल्क लगाने वाले देशों में से एक’ करार देने वाले ट्रंप ने भारत के साथ अमेरिकी व्यापार को ‘मूर्खता से भरा कारोबार’ करार दिया है। ट्रंप बार-बार यह दावा करते रहे हैं कि भारत टैरिफ किंग है और वह अमेरिकी सामानों पर ‘बहुत ही भारी-भरकम’ शु्ल्क लगाता है।

लॉस वेगस में शनिवार को रिपब्लिकन जेविश कोअलिशन को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा, ‘भारत हमसे भारी शुल्क वसूल रहा है। महान देश, परम मित्र, प्रधानमंत्री (नरेंद्र) मोदी कई सामानों पर हमसे 100 फीसदी से अधिक शुल्क वसूल रहे हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका ‘ऐसे सामानों पर भारत से कोई शुल्क नहीं’ वसूल रहा है।’

सीनेटरों पर विरोध का लगाया आरोप

अपने भाषण के दौरान उन्होंने यह भी संकेत दिया कि भारत के खिलाफ जवाबी शुल्क लगाने में उन्हें सीनेटरों के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि चीन के बाद भारत दूसरा देश है, जो अमेरिकी सामानों पर भारी-भरकम शुल्क वसूलता है। ट्रंप ने आरोप लगाते हुए कहा कि भारत ने हमारे खिलाफ लगातार ‘मूर्खता से भरा कारोबार’ छेड़ रखा है और अवैध कारोबारी गतिविधियों का सहारा ले रहा है।

उन्होंने अमेरिका के साथ व्यापार असंतुलन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया। भारत के ट्रेड और टैरिफ पॉलिसी पर नाराजगी जताते हुए उन्होंने कहा, ‘हमारे सीनेटर कहते हैं कि आप ऐसा नहीं कर सकते। यह मुक्त व्यापार नहीं है। यह कोई मुक्त व्यापार नहीं है।’ उन्होंने अपनी सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों को इस पर कार्रवाई करने के लिए कहा।

सालाना 800 अरब डॉलर नुकसान का दावा

ट्रंप ने कहा, ‘कृपया आप इसपर काम करेंगे? यह दिमाग खराब करने वाला है। यह ‘मूर्खता से भरा कारोबार’ है। हम ढेर सारा मूर्खता से भरा कारोबार कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि इस तरह के कारोबार के परिणाम स्वरूप काफी वर्षों से अमेरिका को सालाना 800 अरब डॉलर का नुकसान सहना पड़ रहा है।

डेमोक्रेट्स पर साधा निशाना

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘इस तरह के सौदे कौन करता है? वे अच्छे मध्यस्थ नहीं हैं। वास्तव में डेमोक्रेट्स ने इसके जरिये काफी पैसे बनाए हैं। लेकिन रिपब्लिकंस को इसपर बहुत कुछ करना है, जो विचित्र बात है। उन्होंने 800 अरब डॉलर बनाए। लेकिन, हम उसे वापस लाने जा रहे हैं। हम उसे वापस लाएंगे।

हमने जो भी खोया है, उसका अधिकांश हिस्सा वापस लाने जा रहे हैं।’ इस साल की शुरुआत में व्हाइट हाउस के एक आयोजन में जवाबी शुल्क को अपने समर्थन की घोषणा करते हुए ट्रंप ने कहा कि वह भारत द्वारा महंगे हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिल से शुल्क को 100 से घटाकर 50 फीसदी करने से खुश हैं।

Back to top button