अनिश्चितकालीन हड़ताल पर वनकर्मी

पुलिस के समान वेतन देने की कर रहे मांग

इंदौर : मप्र वन कर्मचारी संघ 19 सूत्रीय मांगों को लेकर गुरुवार को प्रदेशव्यापी हड़ताल पर चला गया। संघ के आह्वान पर इंदौर वन परिक्षेत्र के सभी कर्मचारी हड़ताल पर गए। कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों का कहना है कि जब तक प्रदेश सरकार हमारी मांग नहीं मानती, तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

प्रदेश के जंगलों में तैनात वनरक्षक 23 मई की रात 12 बजे से बेमियादी हड़ताल पर चले गए। जिसके चलते जंगल 24 मई से अफसरों के हवाले हो गए हैं। इन दिनों प्रदेश में तेंदुपत्ता संग्रहण का दौर चल रहा है, ऐसे में वनकर्मियों के हड़ताल पर जाने से तेंदुपत्ता संग्रहण पर नकारात्मक असर हो रहा है।

वन कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों के अनुसार हड़ताल में वनरक्षक से लेकर वन क्षेत्रपाल तक शामिल है। इसके अलावा कम्प्यूटर ऑपरेटर व स्थायी कर्मचारी भी हड़ताल पर है। इसके चलते समर्थन मूल्य पर तेंदूपत्ता खरीदी समेत विभाग के विभिन्न काम प्रभावित हो रहे है।

वनकर्मचारियों का कहना है कि पुलिस कर्मचारी आठ-आठ घंटे की शिफ्ट में नौकरी करते हैं और वनरक्षक और वन क्षेत्रपाल 24 घंटे की ड्यूटी दे रहे हैं। इसके बाद भी उन्हें पुलिस के समान वेतनमान के तहत 13 माह का वेतन नहीं दिया जा रहा है।

वन रक्षक से लेकर मुख्य वन संरक्षक तक के सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को वर्दी अनिवार्य करने की मांग भी अब तक लंबित है। इसके अलावा वनरक्षकों को नियुक्ति दिनांक से ग्रेड पे 199/5680 देने, महाराष्ट्र सरकार की तर्ज पर 5 हजार रुपए वर्दी भत्ता देने समेत अन्य मांगें भी पूरी नहीं की गई है। इन्हीं मांगों को लेकर वनकर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं।

advt
Back to top button