विशेष सत्र के दूसरे दिन, विधानसभा में किसानों के बोनस कांग्रेस का हंगामा

रायपुर।

छत्तीसगढ़ विधानसभा के विशेष सत्र के दूसरे दिन चर्चा की शुरुआत हंगामे के साथ हुए। कांग्रेस के विधायक मोहन मरकाम ने कहा कि सरकार ने 2100 रुपए समर्थन मूल्य और 300 रुपए प्रति क्विंटल बोनस देने का वादा किया था तो पहले क्यों नहीं दिया। चुनाव के पहले किसानों को लॉलीपाप दिखा कर ठगने की कोशिश कर रही है। कैग की रिपोर्ट के अनुसार सरकार मुख्य बजट का 20 हजार करोड़ खर्च ही नहीं कर पाई है, फिर यह अनुपूरक बजट क्यों।

सरकार किसानों के साथ धोखा कर रही है, 1450 रुपए प्रति क्विंटल मक्का खरीदने की घोषणा की थी, लेकिन खरीदी की सही व्यवस्था नहीं होने के कारण किसान मजबूरी में 700-800 रुपये में बेच रहे हैं।

उन्होंने पूछा कि जब 1500 किसानों ने आत्महत्या की तब सरकार ने बोनस क्यों नहीं दिया। मरकाम ने कहा कि प्रदेश के कर्मचारी आंदोलन की राह पर हैं। सरकार ने उनकी जायज मांगों के लिए इस अनुपूरक बजट में प्रावधान क्यों नहीं किया है।

कांग्रेसी नहीं चाहते कि सरकार किसानों को बोनस दे

भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने आरोप लगाया कि कांग्रेसी नहीं चाहते कि सरकार किसानों को बोनस दे। लम्बे समय तक सत्ता में रही कांग्रेस ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया। इसी का नतीजा है कि 15 साल से ये लोग इधर बैठे हैं और अभी 10-15 साल उसी तरफ बैठेंगे।

हमारी सरकार किसानों को लगातार बोनस दे रही है। पहले 150, 180, 250 और अब 300 रुपए दे रहे हैं। हमारी सरकार किसानों को बिना ब्याज पर कृषि ऋण दे रही है, किसान सम्पन्न हुए हैं। देश की जनता जागरूक है और वह आने वाले नवंबर महीने में कांग्रेस को इस नाटक का जवाब देगी।

सदन के बाहर रोके जाने से नाराज कांग्रेसियों किया हंगामा

कांग्रेस के विधायक संतराम नेताम ने कहा कि हम लोग सायकल से आ रहे थे। हमें पुलिस ने एक घंटे तक रोक रखा था। यह हमारे विशेषाधिकार का हनन है। दीपक बैज ने भी कहा कि पुलिस ने हमें जबरन रोक कर रखा था। इसके बाद कांग्रेस के दूसरे विधायक भी खड़े होकर नारेबाजी करने लगे। कांग्रेस विधायकों ने आरोप लगया कि जानबूझ कर उन्हें सदन में आने से रोका जा रहा था। इसके कुछ देर बाद नेता प्रतिपक्ष सिंहदेव ने आपत्ति करते हुए सदन को बताया कि हमारे वरिष्ठ साथियों को सदन में आने से रोक जा रहा है।

उन्होंने कहा कि ऐसा कौन सा नियम है कि सायकल या बैलगाड़ी से विधानसभा नहीं आया जा सकता। अगर पास की जरूरत है तो पास दिया जाए। दोपहर करीब 12 बजे कांग्रेसी सदस्यों ने फिर से यही मुद्दा उठाया। सभापति देवजी पटेल ने कहा कि नेता-प्रतिपक्ष ने सदन को अवगत करा दिया है, उसे देखा जा रहा है।

आपका सायकल से आना विरोध, तो हमारा विरोध नाटक कैसे

भाजपा विधायक शिवरतन शर्मा ने कांग्रेसियों के सायकल और बैलगाड़ी से विधानसभा आने को नाटक बताया तो कांग्रेसियों ने पलट वार किया। दीपक बैज ने पूछा कि जब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी तब मुख्यमंत्री और मंत्री भी पेट्रोल डीजल की कीमतों के विरोध सायकल से विधानसभा आए थे, तो क्या वे भी नाटक कर रहे थे।

Tags
Back to top button